Skip to main content

अल-आराफ़ आयत १०० | Al-Aaraf 7:100

Would it not
أَوَلَمْ
क्या भला नहीं
guide
يَهْدِ
रहनुमाई की
[for] those who
لِلَّذِينَ
उन लोगों की जो
inherit
يَرِثُونَ
वारिस बनते हैं
the land
ٱلْأَرْضَ
ज़मीन के
from
مِنۢ
बाद
after
بَعْدِ
बाद
its people
أَهْلِهَآ
उसके रहने वालों के
that
أَن
कि (इस बात ने )
if
لَّوْ
अगर
We willed
نَشَآءُ
हम चाहें
We (could) afflict them
أَصَبْنَٰهُم
पकड़ लें हम उन्हें
for their sins
بِذُنُوبِهِمْۚ
बवजह उनके गुनाहों के
and We put a seal
وَنَطْبَعُ
और हम मोहर लगा दें
over
عَلَىٰ
उनके दिलों पर
their hearts
قُلُوبِهِمْ
उनके दिलों पर
so they
فَهُمْ
फिर वो
(do) not
لَا
ना वो सुनें
hear?
يَسْمَعُونَ
ना वो सुनें

Awalam yahdi lillatheena yarithoona alarda min ba'di ahliha an law nashao asabnahum bithunoobihim wanatba'u 'ala quloobihim fahum la yasma'oona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

क्या जो धरती के, उसके पूर्ववासियों के पश्चात उत्तराधिकारी हुए है, उनपर यह तथ्य प्रकट न हुआ कि यदि हम चाहें तो उनके गुनाहों पर उन्हें आ पकड़े? हम तो उनके दिलों पर मुहर लगा रहे हैं, क्योंकि वे कुछ भी नहीं सुनते

English Sahih:

Has it not become clear to those who inherited the earth after its [previous] people that if We willed, We could afflict them for their sins? But We seal over their hearts so they do not hear.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

क्या जो लोग अहले ज़मीन के बाद ज़मीन के वारिस (व मालिक) होते हैं उन्हें ये मालूम नहीं कि अगर हम चाहते तो उनके गुनाहों की बदौलत उनको मुसीबत में फँसा देते (मगर ये लोग ऐसे नासमझ हैं कि गोया) उनके दिलों पर हम ख़ुद (मोहर कर देते हैं कि ये लोग कुछ सुनते ही नहीं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो क्या उनको शिक्षा नहीं मिली, जो धरती के वारिस होते हैं, उसके अगले वासियों के पश्चात् कि यदि हम चाहें, तो उनके पापों के बदले उन्हें आपदा में ग्रस्त कर दें और उनके दिलों पर मुहर लगा दें, फिर वे कोई बात ही न सुन सकें?