Skip to main content

अल-आराफ़ आयत १६० | Al-Aaraf 7:160

And We divided them
وَقَطَّعْنَٰهُمُ
और अलग-अलग कर दिया हमने उन्हें
(into) two
ٱثْنَتَىْ
बारह
(and) ten [i.e. twelve]
عَشْرَةَ
बारह
tribes
أَسْبَاطًا
क़बीलों में
(as) communities
أُمَمًاۚ
जमाअतें बनाकर
And We inspired
وَأَوْحَيْنَآ
और वही की हमने
to
إِلَىٰ
तरफ़ मूसा के
Musa
مُوسَىٰٓ
तरफ़ मूसा के
when
إِذِ
जब
asked him for water
ٱسْتَسْقَىٰهُ
पानी माँगा उससे
his people
قَوْمُهُۥٓ
उसकी क़ौम ने
[that]
أَنِ
कि
"Strike
ٱضْرِب
मार
with your staff
بِّعَصَاكَ
असा अपना
the stone"
ٱلْحَجَرَۖ
पत्थर पर
Then gushed forth
فَٱنۢبَجَسَتْ
पस फूट निकले
from it
مِنْهُ
उससे
two
ٱثْنَتَا
बारह
(and) ten [i.e. twelve]
عَشْرَةَ
बारह
springs
عَيْنًاۖ
चश्मे
Certainly
قَدْ
तहक़ीक़
knew
عَلِمَ
जान लिया
each
كُلُّ
हर
people
أُنَاسٍ
गिरोह ने
their drinking place
مَّشْرَبَهُمْۚ
घाट अपना
And We shaded
وَظَلَّلْنَا
और साया किया हमने
[on] them
عَلَيْهِمُ
उन पर
(with) the clouds
ٱلْغَمَٰمَ
बादलों का
and We sent down
وَأَنزَلْنَا
और नाज़िल किया हमने
upon them
عَلَيْهِمُ
उन पर
the manna
ٱلْمَنَّ
मन्न
and the quails
وَٱلسَّلْوَىٰۖ
और सलवा
"Eat
كُلُوا۟
खाओ
from
مِن
पाकीज़ा चीज़ों में से
(the) good things
طَيِّبَٰتِ
पाकीज़ा चीज़ों में से
which
مَا
जो
We have provided you"
رَزَقْنَٰكُمْۚ
अता कीं हमने तुम्हें
And not
وَمَا
और नहीं
they wronged Us
ظَلَمُونَا
उन्होंने ज़ुल्म किया हम पर
but
وَلَٰكِن
और लेकिन
they were
كَانُوٓا۟
थे वो
(to) themselves
أَنفُسَهُمْ
अपनी ही जानों पर
doing wrong
يَظْلِمُونَ
वो ज़ुल्म करते

Waqatta'nahumu ithnatay 'ashrata asbatan omaman waawhayna ila moosa ithi istasqahu qawmuhu ani idrib bi'asaka alhajara fainbajasat minhu ithnata 'ashrata 'aynan qad 'alima kullu onasin mashrabahum wathallalna 'alayhimu alghamama waanzalna 'alayhimu almanna waalssalwa kuloo min tayyibati ma razaqnakum wama thalamoona walakin kanoo anfusahum yathlimoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और हमने उन्हें बारह ख़ानदानों में विभक्त करके अलग-अलग समुदाय बना दिया। जब उसकी क़ौम के लोगों ने पानी माँगा तो हमने मूसा की ओर प्रकाशना की, 'अपनी लाठी अमुक चट्टान पर मारो।' अतएव उससे बारह स्रोत फूट निकले और हर गिरोह ने अपना-अपना घाट मालूम कर लिया। और हमने उनपर बादल की छाया की और उन पर 'मन्न' और 'सलवा' उतारा, 'हमनें तुम्हें जो अच्छी-स्वच्छ चीज़े प्रदान की है, उन्हें खाओ।' उन्होंने हम पर कोई ज़ुल्म नहीं किया, बल्कि वास्तव में वे स्वयं अपने ऊपर ही ज़ुल्म करते रहे

English Sahih:

And We divided them into twelve descendant tribes [as distinct] nations. And We inspired to Moses when his people implored him for water, "Strike with your staff the stone," and there gushed forth from it twelve springs. Every people [i.e., tribe] knew its watering place. And We shaded them with clouds and sent down upon them manna and quails, [saying], "Eat from the good things with which We have provided you." And they wronged Us not, but they were [only] wronging themselves.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और हमने बनी ईसराइल के एक एक दादा की औलाद को जुदा जुदा बारह गिरोह बना दिए और जब मूसा की क़ौम ने उनसे पानी मॉगा तो हमने उनके पास वही भेजी कि तुम अपनी छड़ी पत्थर पर मारो (छड़ी मारना था) कि उस पत्थर से पानी के बारह चश्मे फूट निकले और ऐसे साफ साफ अलग अलग कि हर क़बीले ने अपना अपना घाट मालूम कर लिया और हमने बनी ईसराइल पर अब्र (बादल) का साया किया और उन पर मन व सलवा (सी नेअमत) नाज़िल की (लोगों) जो पाक (पाकीज़ा) चीज़े तुम्हें दी हैं उन्हें (शौक़ से खाओ पियो) और उन लोगों ने (नाफरमानी करके) कुछ हमारा नहीं बिगाड़ा बल्कि अपना आप ही बिगाड़ते हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और[1] हमने मूसा की जाति के बारह घरानों को बारह जातियों में विभक्त कर दिया और हमने मूसा की ओर वह़्यी भेजी, जब उसकी जाति ने उससे जल माँगा कि अपनी लाठी इस पत्थर पर मारो, तो उससे बारह स्रोत उबल पड़े तथा प्रत्येक समुदाय ने अपने पीने का स्थान जान लिया और उनपर बादलों की छाँव की और उनपर मन्न तथा सल्वा उतारा। (हमने कहाः) इन स्वच्छ चीज़ों में से, जो हमने तुम्हें प्रदान की हैं, खाओ और हमने उनपर अत्याचार नहीं किया, परन्तु वे स्वयं (अवज्ञा करके) अपने प्राणों पर अत्याचार कर रहे थे।