Skip to main content

अल-आराफ़ आयत १७१ | Al-Aaraf 7:171

And when
وَإِذْ
और जब
We raised
نَتَقْنَا
उठाया हमने
the mountain
ٱلْجَبَلَ
पहाड़ को
above them
فَوْقَهُمْ
ऊपर उनके
as if it was
كَأَنَّهُۥ
गोया कि वो
a canopy
ظُلَّةٌ
एक सायबान था
and they thought
وَظَنُّوٓا۟
और उन्होंने समझ लिया
that it
أَنَّهُۥ
कि बेशक वो
(would) fall
وَاقِعٌۢ
गिरने वाला है
upon them
بِهِمْ
उन पर
(We said) Take
خُذُوا۟
पकड़ो
what
مَآ
जो
We have given you
ءَاتَيْنَٰكُم
दिया हमने तुम्हें
with strength
بِقُوَّةٍ
साथ क़ुव्वत के
and remember
وَٱذْكُرُوا۟
और याद करो
what
مَا
जो
(is) in it
فِيهِ
इसमें है
so that you may
لَعَلَّكُمْ
ताकि तुम
fear Allah"
تَتَّقُونَ
तुम मुत्तक़ी बन जाओ

Waith nataqna aljabala fawqahum kaannahu thullatun wathannoo annahu waqi'un bihim khuthoo ma ataynakum biquwwatin waothkuroo ma feehi la'allakum tattaqoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और याद करो जब हमने पर्वत को हिलाया, जो उनके ऊपर था। मानो वह कोई छत्र हो और वे समझे कि बस वह उनपर गिरा ही चाहता है, 'थामो मज़बूती से, जो कुछ हमने दिया है। और जो कुछ उसमें है उसे याद रखो, ताकि तुम बच सको।'

English Sahih:

And [mention] when We raised the mountain above them as if it was a dark cloud and they were certain that it would fall upon them, [and Allah said], "Take what We have given you with determination and remember what is in it that you might fear Allah."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो (ऐ रसूल यहूद को याद दिलाओ) जब हम ने उन (के सरों) पर पहाड़ को इस तरह लटका दिया कि गोया साएबान (छप्पर) था और वह लोग समझ चुके थे कि उन पर अब गिरा और हमने उनको हुक्म दिया कि जो कुछ हमने तुम्हें अता किया है उसे मज़बूती से पकड़ लो और जो कुछ उसमें लिखा है याद रखो ताकि तुम परहेज़गार बन जाओ

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और जब हमने उनके ऊपर पर्वत को इस प्रकार छा दिया, जैसे वह कोई छतरी हो और उन्हें विश्वास हो गया कि वह उनपर गिर पड़ेगा, (तथा ये आदेश दिया कि) जो (पुस्तक) हमने तुम्हें प्रदान की है, उसे दृढ़ता से थाम लो तथा उसमें जो कुछ है, उसे याद रखो, ताकि तुम आज्ञाकारी हो जाओ।