Skip to main content

अल-आराफ़ आयत ४६ | Al-Aaraf 7:46

And between them
وَبَيْنَهُمَا
और दर्मियान उन दोनों के
(will be) a partition
حِجَابٌۚ
एक हिजाब होगा
and on
وَعَلَى
और आराफ़ पर
the heights
ٱلْأَعْرَافِ
और आराफ़ पर
(will be) men
رِجَالٌ
कुछ लोग होंगे
recognizing
يَعْرِفُونَ
वो पहचानते होंगे
all
كُلًّۢا
हर एक को
by their marks
بِسِيمَىٰهُمْۚ
उनकी अलामत से
And they will call out
وَنَادَوْا۟
और वो पुकारेंगे
(to the) companions
أَصْحَٰبَ
जन्नत वालों को
(of) Paradise
ٱلْجَنَّةِ
जन्नत वालों को
that
أَن
कि
"Peace
سَلَٰمٌ
सलाम हो
(be) upon you"
عَلَيْكُمْۚ
तुम पर
Not
لَمْ
नहीं
they have entered it
يَدْخُلُوهَا
वो दाख़िल हुए होंगे उसमें
but they
وَهُمْ
और वो
hope
يَطْمَعُونَ
वो उम्मीद रखते होंगे

Wabaynahuma hijabun wa'ala ala'rafi rijalun ya'rifoona kullan biseemahum wanadaw ashaba aljannati an salamun 'alaykum lam yadkhulooha wahum yatma'oona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और इन दोनों के मध्य एक ओट होगी। और ऊँचाइयों पर कुछ लोग होंगे जो प्रत्येक को उसके लक्षणों से पहचानते होंगे, और जन्नतवालों से पुकारकर कहेंगे, 'तुम पर सलाम है।' वे अभी जन्नत में प्रविष्ट तो नहीं हुए होंगे, यद्यपि वे आस लगाए होंगे

English Sahih:

And between them will be a partition [i.e., wall], and on [its] elevations are men who recognize all by their mark. And they call out to the companions of Paradise, "Peace be upon you." They have not [yet] entered it, but they long intensely.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और बेहश्त व दोज़ख के दरमियान एक हद फ़ासिल है और कुछ लोग आराफ़ पर होगें जो हर शख्स को (बेहिश्ती हो या जहन्नुमी) उनकी पेशानी से पहचान लेगें और वह जन्नत वालों को आवाज़ देगें कि तुम पर सलाम हो या (आराफ़ वाले) लोग अभी दाख़िले जन्नत नहीं हुए हैं मगर वह तमन्ना ज़रूर रखते हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और दोनों (नरक तथा स्वर्ग) के बीच एक परदा होगा और कुछ लोग आराफ़[1] (ऊँचाइयों) पर होंगे, जो प्रत्येक को उनके लक्षणों से पहचानेंगे और स्वर्ग वासियों को पुकारकर उन्हें सलाम करेंगे और उन्होंने उसमें प्रवेश नहीं किया होगा, परन्तु उसकी आशा रखते होंगे।