Skip to main content

अल-आराफ़ आयत ४५ | Al-Aaraf 7:45

Those who
ٱلَّذِينَ
वो जो
hinder
يَصُدُّونَ
रोकते थे
from
عَن
अल्लाह के रास्ते से
(the) way
سَبِيلِ
अल्लाह के रास्ते से
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के रास्ते से
and seek in it
وَيَبْغُونَهَا
और वो तलाश करते थे उसमें
crookedness
عِوَجًا
टेढ़ापन
while they (are)
وَهُم
और वो
concerning the Hereafter
بِٱلْءَاخِرَةِ
आख़िरत का
disbelievers"
كَٰفِرُونَ
इन्कार करने वाले थे

Allatheena yasuddoona 'an sabeeli Allahi wayabghoonaha 'iwajan wahum bialakhirati kafiroona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जो अल्लाह के मार्ग से रोकते और उसे टेढ़ा करना चाहते है और जो आख़िरत का इनकार करते है,

English Sahih:

Who averted [people] from the way of Allah and sought to make it [seem] deviant while they were, concerning the Hereafter, disbelievers."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जो ख़ुदा की राह से लोगों को रोकते थे और उसमें (ख्वामख्वाह) कज़ी (टेढ़ापन) करना चाहते थे और वह रोज़े आख़ेरत से इन्कार करते थे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जो लोगों को अल्लाह की राह (सत्धर्म) से रोकते तथा उसे टेढ़ा करना चाहते थे और वही प्रलोक के प्रति विश्वास नहीं रखते।