Skip to main content

अल-आराफ़ आयत ५७ | Al-Aaraf 7:57

And He
وَهُوَ
और वो ही है
(is) the One Who
ٱلَّذِى
जो
sends
يُرْسِلُ
भेजता है
the winds
ٱلرِّيَٰحَ
हवाओं को
(as) glad tidings
بُشْرًۢا
ख़ुशख़बरी बनाकर
from
بَيْنَ
आगे-आगे
before
يَدَىْ
आगे-आगे
His Mercy
رَحْمَتِهِۦۖ
अपनी रहमत के
until
حَتَّىٰٓ
हत्ता कि
when
إِذَآ
जब
they have carried
أَقَلَّتْ
वो उठा लेती हैं
clouds
سَحَابًا
बादल
heavy
ثِقَالًا
बोझल
We drive them
سُقْنَٰهُ
चलाते/हाँकते हैं हम उसे
to a land
لِبَلَدٍ
तरफ़ ज़मीन
dead
مَّيِّتٍ
मुर्दा के
then We send down
فَأَنزَلْنَا
फिर उतारते हैं हम
from it
بِهِ
साथ इसके
the water
ٱلْمَآءَ
पानी को
then We bring forth
فَأَخْرَجْنَا
फिर निकालते हैं हम
from it
بِهِۦ
साथ इसके
(of)
مِن
हर तरह के फलों से
all (kinds)
كُلِّ
हर तरह के फलों से
(of) fruits
ٱلثَّمَرَٰتِۚ
हर तरह के फलों से
Thus
كَذَٰلِكَ
इसी तरह
We will bring forth
نُخْرِجُ
हम निकालेंगे
the dead
ٱلْمَوْتَىٰ
मुर्दों को
so that you may
لَعَلَّكُمْ
ताकि तुम
take heed
تَذَكَّرُونَ
तुम नसीहत पकड़ो

Wahuwa allathee yursilu alrriyaha bushran bayna yaday rahmatihi hatta itha aqallat sahaban thiqalan suqnahu libaladin mayyitin faanzalna bihi almaa faakhrajna bihi min kulli alththamarati kathalika nukhriju almawta la'allakum tathakkaroona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और वही है जो अपनी दयालुता से पहले शुभ सूचना देने को हवाएँ भेजता है, यहाँ तक कि जब वे बोझल बादल को उठा लेती है तो हम उसे किसी निर्जीव भूमि की ओर चला देते है, फिर उससे पानी बरसाते है, फिर उससे हर तरह के फल निकालते है। इसी प्रकार हम मुर्दों को मृत अवस्था से निकालेगे - ताकि तुम्हें ध्यान हो

English Sahih:

And it is He who sends the winds as good tidings before His mercy [i.e., rainfall] until, when they have carried heavy rainclouds, We drive them to a dead land and We send down rain therein and bring forth thereby [some] of all the fruits. Thus will We bring forth the dead; perhaps you may be reminded.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(क्योंकि) नेकी करने वालों से ख़ुदा की रहमत यक़ीनन क़रीब है और वही तो (वह) ख़ुदा है जो अपनी रहमत (अब्र) से पहले खुशखबरी देने वाली हवाओ को भेजता है यहाँ तक कि जब हवाएं (पानी से भरे) बोझल बादलों के ले उड़े तो हम उनको किसी शहर की की तरफ (जो पानी का नायाबी (कमी) से गोया) मर चुका था हॅका दिया फिर हमने उससे पानी बरसाया, फिर हमने उससे हर तरह के फल ज़मीन से निकाले

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और वही है, जो अपनी दया (वर्षा) से पहले वायुओं को (वर्षा) की शुभ सूचना देने के लिए भेजता है और जब वे भारी बादलों को लिए उड़ती हैं, तो हम उसे किसी निर्जीव धरती को (जीवित) करने के लिए पहुँचा देते हैं, फिर उससे जल वर्षा कर, उसके द्वारा प्रत्येक प्रकार के फल उपजा देते हैं। इसी प्रकार, हम मुर्दों को जीवित करते हैं, ताकि तुम शिक्षा ग्रहण कर सको।