Skip to main content

अल-इन्सान आयत २ | Al-Insan 76:2

Indeed We
إِنَّا
बेशक हम
[We] created
خَلَقْنَا
पैदा किया हमने
man
ٱلْإِنسَٰنَ
इन्सान को
from
مِن
एक नुत्फ़े से
a sperm-drop
نُّطْفَةٍ
एक नुत्फ़े से
mixture
أَمْشَاجٍ
मिले-जुले /मख़लूत
(that) We test him;
نَّبْتَلِيهِ
कि हम आज़माऐं उसे
so We made (for) him
فَجَعَلْنَٰهُ
तो बनाया हमने उसे
hearing
سَمِيعًۢا
ख़ूब सुनने वाला
and sight
بَصِيرًا
ख़ूब देखने वाला

Inna khalaqna alinsana min nutfatin amshajin nabtaleehi faja'alnahu samee'an baseeran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

हमने मनुष्य को एक मिश्रित वीर्य से पैदा किया, उसे उलटते-पलटते रहे, फिर हमने उसे सुनने और देखनेवाला बना दिया

English Sahih:

Indeed, We created man from a sperm-drop mixture that We may try him; and We made him hearing and seeing.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

हमने इन्सान को मख़लूत नुत्फे से पैदा किया कि उसे आज़माये तो हमने उसे सुनता देखता बनाया

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हमने ही पैदा किया मनुष्य को मिश्रित (मिले हुए) वीर्य[1] से, ताकि उसकी परीक्षा लें और बनाया उसे सुनने तथा देखने वाला।