Skip to main content

अल-अन्फाल आयत १९ | Al-Anfal 8:19

If
إِن
अगर
you ask for victory
تَسْتَفْتِحُوا۟
तुम फ़ैसला चाहते हो
then certainly
فَقَدْ
तो तहक़ीक़
has come to you
جَآءَكُمُ
आ गया तुम्हारे पास
the victory
ٱلْفَتْحُۖ
फ़ैसला
And if
وَإِن
और अगर
you desist
تَنتَهُوا۟
तुम बाज़ आ जाओ
then it (is)
فَهُوَ
तो वो
good
خَيْرٌ
बेहतर है
for you
لَّكُمْۖ
तुम्हारे लिए
but if
وَإِن
और अगर
you return
تَعُودُوا۟
तुम लौटोगे
We will return (too)
نَعُدْ
हम भी लौटेंगे
And never
وَلَن
और हरगिज़ ना
will avail
تُغْنِىَ
काम आएगा
you
عَنكُمْ
तुम्हें
your forces
فِئَتُكُمْ
गिरोह तुम्हारा
anything
شَيْـًٔا
कुछ भी
even if
وَلَوْ
और अगरचे
(they are) numerous
كَثُرَتْ
वो बकसरत हों
And that
وَأَنَّ
और बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) with
مَعَ
साथ है
the believers
ٱلْمُؤْمِنِينَ
ईमान लाने वालों के

In tastaftihoo faqad jaakumu alfathu wain tantahoo fahuwa khayrun lakum wain ta'oodoo na'ud walan tughniya 'ankum fiatukum shayan walaw kathurat waanna Allaha ma'a almumineena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यदि तुम फ़ैसला चाहते हो तो फ़ैसला तुम्हारे सामने आ चुका और यदि बाज़ आ जाओ तो यह तुम्हारे ही लिए अच्छा है। लेकिन यदि तुमने पलटकर फिर वही हरकत की तो हम भी पलटेंगे और तुम्हारा जत्था, चाहे वह कितना ही अधिक हो, तुम्हारे कुछ काम न आ सकेगा। और यह कि अल्लाह मोमिनों के साथ होता है

English Sahih:

If you [disbelievers] seek the decision [i.e., victory] – the decision [i.e., defeat] has come to you. And if you desist [from hostilities], it is best for you; but if you return [to war], We will return, and never will you be availed by your [large] company at all, even if it should increase; and [that is] because Allah is with the believers.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(काफ़िर) अगर तुम ये चाहते हो (कि जो हक़ पर हो उसकी) फ़तेह हो (मुसलमानों की) फ़तेह भी तुम्हारे सामने आ मौजूद हुई अब क्या गुरूर बाक़ी है और अगर तुम (अब भी मुख़तलिफ़ इस्लाम) से बाज़ रहो तो तुम्हारे वास्ते बेहतर है और अगर कहीं तुम पलट पड़े तो (याद रहे) हम भी पलट पड़ेगें (और तुम्हें तबाह कर छोड़ देगें) और तुम्हारी जमाअत अगरचे बहुत ज्यादा भी हो हरगिज़ कुछ काम न आएगी और ख़ुदा तो यक़ीनी मामिनीन के साथ है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

यदि तुम[1] निर्णय चाहते हो, तो तुम्हारे सामने निर्णय आ गया है और यदि तुम रुक जाओ, तो तुम्हारे लिए उत्तम है और यदि फिर पहले जैसा करोगे, तो हमभी वैसा ही करेंगे और तुम्हारा जत्था तुम्हारे कुछ काम नहीं आयेगा, यद्यपि अधिक हो और निश्चय अल्लाह ईमान वालों के साथ है।