Skip to main content

अल-अन्फाल आयत ३३ | Al-Anfal 8:33

But not
وَمَا
और नहीं
is
كَانَ
है
(for) Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
that He punishes them
لِيُعَذِّبَهُمْ
कि वो अज़ाब दे उन्हें
while you
وَأَنتَ
जबकि आप
(are) among them
فِيهِمْۚ
उनमें (मौजूद हों)
and not
وَمَا
और नहीं
is
كَانَ
है
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
the One Who punishes them
مُعَذِّبَهُمْ
अज़ाब देने वाला है उन्हें
while they
وَهُمْ
जबकि वो
seek forgiveness
يَسْتَغْفِرُونَ
वो इस्तग़फ़ार कर रहे हों

Wama kana Allahu liyu'aththibahum waanta feehim wama kana Allahu mu'aththibahum wahum yastaghfiroona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और अल्लाह ऐसा नहीं कि तुम उनके बीच उपस्थित हो और वह उन्हें यातना देने लग जाए, और न अल्लाह ऐसा है कि वे क्षमा-याचना कर रहे हो और वह उन्हें यातना से ग्रस्त कर दे

English Sahih:

But Allah would not punish them while you, [O Muhammad], are among them, and Allah would not punish them while they seek forgiveness.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

हालॉकि जब तक तुम उनके दरमियान मौजूद हो ख़ुदा उन पर अज़ाब नहीं करेगा और अल्लाह ऐसा भी नही कि लोग तो उससे अपने गुनाहो की माफी माँग रहे हैं और ख़ुदा उन पर नाज़िल फरमाए

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और अल्लाह उन्हें यातना नहीं दे सकता था, जब तक आप उनके बीच थे और न उन्हें यातना देने वाला है, जब तक वे क्षमा याचना कर रहे हों।