Skip to main content

युनुस आयत ३० | Yunus 10:30

There
هُنَالِكَ
उसी जगह/वक़्त
will be put to trial
تَبْلُوا۟
जाँच लेगा
every
كُلُّ
हर
soul
نَفْسٍ
नफ़्स
(for) what
مَّآ
जो
it did previously
أَسْلَفَتْۚ
उसने पहले किया
and they will be returned
وَرُدُّوٓا۟
और वो लौटाए जाऐंगे
to
إِلَى
तरफ़
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के
their Lord
مَوْلَىٰهُمُ
जो मौला है उनका
the true
ٱلْحَقِّۖ
सच्चा
and will be lost
وَضَلَّ
और गुम हो जाएगा
from them
عَنْهُم
उनसे
what
مَّا
जो
they used (to)
كَانُوا۟
थे वो
invent
يَفْتَرُونَ
वो गढ़ते

Hunalika tabloo kullu nafsin ma aslafat waruddoo ila Allahi mawlahumu alhaqqi wadalla 'anhum ma kanoo yaftaroona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वहाँ प्रत्येक व्यक्ति अपने पहले के किए हुए कर्मों को स्वयं जाँच लेगा और वह अल्लाह, अपने वास्तविक स्वामी की ओर फिरेंगे और जो कुछ झूठ वे घड़ते रहे थे, वह सब उनसे गुम होकर रह जाएगा

English Sahih:

There, [on that Day], every soul will be put to trial for what it did previously, and they will be returned to Allah, their master, the Truth, and lost from them is whatever they used to invent.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ग़रज़) वहाँ हर शख़्श जो कुछ जिसने पहले (दुनिया में) किया है जाँच लेगा और वह सब के सब अपने सच्चे मालिक ख़ुदा की बारगाह में लौटकर लाए जाएँगें और (दुनिया में) जो कुछ इफ़तेरा परदाज़िया (झूठी बातें) करते थे सब उनके पास से चल चंपत हो जाएगें

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वहीं, प्रत्येक व्यक्ति उसे परख लेगा, जो पहले किया है और वे (निर्णय के लिए) अपने सत्य स्वामी की ओर फेर दिये जायेंगे और जो मिथ्या बातें बना रहे थे, उनसे खो जायेंगे।