Skip to main content

अल-क़ारिअह आयत ४ | Al-Qaria 101:4

(The) Day
يَوْمَ
जिस दिन
will be
يَكُونُ
हो जाऐंगे
the mankind
ٱلنَّاسُ
लोग
like moths
كَٱلْفَرَاشِ
परवानों की तरह
scattered
ٱلْمَبْثُوثِ
बिखरे हुए

Yawma yakoonu alnnasu kaalfarashi almabthoothi

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जिस दिन लोग बिखरे हुए पतंगों के सदृश हो जाएँगें,

English Sahih:

It is the Day when people will be like moths, dispersed,

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जिस दिन लोग (मैदाने हश्र में) टिड्डियों की तरह फैले होंगे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जिस दिन लोग, बिखरे पतिंगों के समान (व्याकूल) होंगे।