Skip to main content

अल हिज्र आयत ७२ | Al-Hijr 15:72

By your life
لَعَمْرُكَ
आपकी ज़िन्दगी की क़सम
indeed they
إِنَّهُمْ
बेशक वो
were in
لَفِى
अलबत्ता अपने नशे में
their intoxication
سَكْرَتِهِمْ
अलबत्ता अपने नशे में
wandering blindly
يَعْمَهُونَ
वो बहक रहे थे

La'amruka innahum lafee sakratihim ya'mahoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

तुम्हारे जीवन की सौगन्ध, वे अपनी मस्ती में खोए हुए थे,

English Sahih:

By your life, [O Muhammad], indeed they were, in their intoxication, wandering blindly.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(इनसे निकाह कर लो) ऐ रसूल तुम्हारी जान की कसम ये लोग (क़ौम लूत) अपनी मस्ती में मदहोश हो रहे थे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे नबी! आपकी आयु की शपथ[1]! वास्तव में, वे अपने उन्माद में बहक रहे थे।