Skip to main content

अल इस्रा आयत ६८ | Al-Isra 17:68

Do you then feel secure
أَفَأَمِنتُمْ
क्या बेख़ौफ़ हो गए तुम
that (not)
أَن
कि
He will cause to swallow
يَخْسِفَ
वो धँसा दे
you
بِكُمْ
तुम्हें
side
جَانِبَ
ख़ुश्की की जानिब
(of) the land
ٱلْبَرِّ
ख़ुश्की की जानिब
or
أَوْ
या
send
يُرْسِلَ
वो भेज दे
against you
عَلَيْكُمْ
तुम पर
a storm of stones?
حَاصِبًا
पत्थर बरसाने वाली आँधी
Then
ثُمَّ
फिर
not
لَا
ना तुम पाओगे
you will find
تَجِدُوا۟
ना तुम पाओगे
for you
لَكُمْ
अपने लिए
a guardian?
وَكِيلًا
कोई कारसाज़

Afaamintum an yakhsifa bikum janiba albarri aw yursila 'alaykum hasiban thumma la tajidoo lakum wakeelan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

क्या तुम इससे निश्चिन्त हो कि वह कभी थल की ओर ले जाकर तुम्हें धँसा दे या तुमपर पथराव करनेवाली आँधी भेज दे; फिर अपना कोई कार्यसाधक न पाओ?

English Sahih:

Then do you feel secure that [instead] He will not cause a part of the land to swallow you or send against you a storm of stones? Then you would not find for yourselves an advocate.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो क्या तुम उसको इस का भी इत्मिनान हो गया कि वह तुम्हें खुश्की की तरफ (ले जाकर) (क़ारुन की तरह) ज़मीन में धंसा दे या तुम पर (क़ौम) लूत की तरह पत्थरों का मेंह बरसा दे फिर (उस वक्त) तुम किसी को अपना कारसाज़ न पाओगे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

क्या तुम निर्भय हो गये हो कि अल्लाह तुम्हें थल (धरती) ही में धंसा दे अथवा तुमपर फथरीली आँधी भेज दे? फिर तुम अपना कोई रक्षक न पाओ।