Skip to main content

अल कहफ़ आयत ७४ | Al-Kahf 18:74

Then they both set out
فَٱنطَلَقَا
तो दोनों चल दिए
until
حَتَّىٰٓ
यहाँ तक कि
when
إِذَا
जब
they met
لَقِيَا
वो दोनों मिले
a boy
غُلَٰمًا
एक लड़के को
then he killed him
فَقَتَلَهُۥ
तो उसने क़त्ल कर दिया उसे
He said
قَالَ
कहा
"Have you killed
أَقَتَلْتَ
क्या क़त्ल कर दिया तुमने
a soul
نَفْسًا
एक जान को
pure
زَكِيَّةًۢ
जो पाक थी
for other than
بِغَيْرِ
बग़ैर
a soul?
نَفْسٍ
किसी जान के (बदले)
Certainly
لَّقَدْ
अलबत्ता तहक़ीक़
you have done
جِئْتَ
लाए हो तुम
a thing
شَيْـًٔا
एक चीज़
evil"
نُّكْرًا
इन्तिहाई नापसंदीदा

Faintalaqa hatta itha laqiya ghulaman faqatalahu qala aqatalta nafsan zakiyyatan bighayri nafsin laqad jita shayan nukran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फिर वे दोनों चले, यहाँ तक कि जब वे एक लड़के से मिले तो उसने उसे मार डाला। कहा, 'क्या आपने एक अच्छी-भली जान की हत्या कर दी, बिना इसके कि किसी की हत्या का बदला लेना अभीष्ट हो? यह तो आपने बहुत ही बुरा किया!'

English Sahih:

So they set out, until when they met a boy, he [i.e., al-Khidhr] killed him. [Moses] said, "Have you killed a pure soul for other than [having killed] a soul? You have certainly done a deplorable thing."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ख़ैर ये तो हो गया) फिर दोनों के दोनों आगे चले यहाँ तक कि दोनों एक लड़के से मिले तो उस बन्दे ख़ुदा ने उसे जान से मार डाला मूसा ने कहा (ऐ माज़ अल्लाह) क्या आपने एक मासूम शख़्श को मार डाला और वह भी किसी के (ख़ौफ के) बदले में नहीं आपने तो यक़ीनी एक अजीब हरकत की

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

फिर दोनों चले, यहाँ तक कि एक बालक से मिले, तो उस (ख़िज़्र) ने उसे वध कर दिया। मूसा ने कहाः क्या आपने एक निर्दोष प्राण ले लिया, वह भी किसी प्राण के बदले[1] नहीं? आपने बहुत ही बुरा काम किया।