Skip to main content

अल बकराह आयत १२४ | Al-Baqrah 2:124

And when
وَإِذِ
और जब
tried
ٱبْتَلَىٰٓ
आज़माया
Ibrahim
إِبْرَٰهِۦمَ
इब्राहीम को
his Lord
رَبُّهُۥ
उसके रब ने
with words
بِكَلِمَٰتٍ
चंद कलिमात से
and he fulfilled them
فَأَتَمَّهُنَّۖ
तो उसने पूरा कर दिया उन्हें
He said
قَالَ
फ़रमाया
"Indeed I
إِنِّى
बेशक मैं
(am) the One to make you
جَاعِلُكَ
बनाने वाला हूँ तुझे
for the mankind
لِلنَّاسِ
लोगों के लिए
a leader"
إِمَامًاۖ
इमाम
He said
قَالَ
कहा
"And from
وَمِن
और मेरी औलाद में से
my offspring?"
ذُرِّيَّتِىۖ
और मेरी औलाद में से
He said
قَالَ
फ़रमाया
"(Does) not
لَا
नहीं पहुँचेगा
reach
يَنَالُ
नहीं पहुँचेगा
My Covenant
عَهْدِى
अहद मेरा
(to) the wrongdoers"
ٱلظَّٰلِمِينَ
ज़ालिमों को

Waithi ibtala ibraheema rabbuhu bikalimatin faatammahunna qala innee ja'iluka lilnnasi imaman qala wamin thurriyyatee qala la yanalu 'ahdee alththalimeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और याद करो जब इबराहीम की उसके रब से कुछ बातों में परीक्षा ली तो उसने उसको पूरा कर दिखाया। उसने कहा, 'मैं तुझे सारे इनसानों का पेशवा बनानेवाला हूँ।' उसने निवेदन किया, ' और मेरी सन्तान में भी।' उसने कहा, 'ज़ालिम मेरे इस वादे के अन्तर्गत नहीं आ सकते।'

English Sahih:

And [mention, O Muhammad], when Abraham was tried by his Lord with words [i.e., commands] and he fulfilled them. [Allah] said, "Indeed, I will make you a leader for the people." [Abraham] said, "And of my descendants?" [Allah] said, "My covenant does not include the wrongdoers."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) बनी इसराईल को वह वक्त भी याद दिलाओ जब इबराहीम को उनके परवरदिगार ने चन्द बातों में आज़माया और उन्होंने पूरा कर दिया तो खुदा ने फरमाया मैं तुमको (लोगों का) पेशवा बनाने वाला हूँ (हज़रत इबराहीम ने) अर्ज़ की और मेरी औलाद में से फरमाया (हाँ मगर) मेरे इस अहद पर ज़ालिमों में से कोई शख्स फ़ायज़ नहीं हो सकता

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और (याद करो) जब इब्राहीम की उसके पालनहार ने कुछ बातों से परीक्षा ली और वह उसमें पूरा उतरा, तो उसने कहा कि मैं तुम्हें सब इन्सानों का इमाम (धर्मगुरु) बनाने वाला हूँ। (इब्राहीम ने) कहाः तथा मेरी संतान से भी। (अल्लाह ने कहाः) मेरा वचन उनके लिए नहीं, जो अत्याचारी[1] हैं।