Skip to main content

अल बकराह आयत २६८ | Al-Baqrah 2:268

The Shaitaan
ٱلشَّيْطَٰنُ
शैतान
promises you
يَعِدُكُمُ
डराता है तुम्हें
[the] poverty
ٱلْفَقْرَ
फ़क़्र से
and orders you
وَيَأْمُرُكُم
और वो हुक्म देता है तुम्हें
to immorality
بِٱلْفَحْشَآءِۖ
बेहयाई का
while Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
promises you
يَعِدُكُم
वादा करता है तुमसे
forgiveness
مَّغْفِرَةً
बख़्शिश का
from Him
مِّنْهُ
अपनी तरफ़ से
and bounty
وَفَضْلًاۗ
और फ़ज़ल का
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) All-Encompassing
وَٰسِعٌ
वुसअत वाला है
All-Knowing
عَلِيمٌ
ख़ूब जानने वाला है

Alshshaytanu ya'idukumu alfaqra wayamurukum bialfahshai waAllahu ya'idukum maghfiratan minhu wafadlan waAllahu wasi'un 'aleemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

शैतान तुम्हें निर्धनता से डराता है और निर्लज्जता के कामों पर उभारता है, जबकि अल्लाह अपनी क्षमा और उदार कृपा का तुम्हें वचन देता है। अल्लाह बड़ी समाईवाला, सर्वज्ञ है

English Sahih:

Satan threatens you with poverty and orders you to immorality, while Allah promises you forgiveness from Him and bounty. And Allah is all-Encompassing and Knowing.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

शैतान तमुको तंगदस्ती से डराता है और बुरी बात (बुख्ल) का तुमको हुक्म करता है और ख़ुदा तुमसे अपनी बख्शिश और फ़ज़ल (व करम) का वायदा करता है और ख़ुदा बड़ी गुन्जाइश वाला और सब बातों का जानने वाला है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

शैतान तुम्हें निर्धनता से डराता है तथा निर्लज्जा की प्रेरणा देता है तथा अल्लाह तुम्हें अपनी क्षमा और अधिक देने का वचन देता है तथा अल्लाह विशाल ज्ञानी है।