Skip to main content

अल-फुरकान आयत ७१ | Al-Furqan 25:71

And whoever
وَمَن
और जो कोई
repents
تَابَ
तौबा करे
and does
وَعَمِلَ
और वो अमल करे
righteous (deeds)
صَٰلِحًا
नेक
then indeed he
فَإِنَّهُۥ
तो बेशक वो
turns
يَتُوبُ
वो पलट आता है
to
إِلَى
तरफ़ अल्लाह के
Allah
ٱللَّهِ
तरफ़ अल्लाह के
(with) repentance
مَتَابًا
पलटना

Waman taba wa'amila salihan fainnahu yatoobu ila Allahi mataban

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जिसने तौबा की और अच्छा कर्म किया, तो निश्चय ही वह अल्लाह की ओर पलटता है, जैसा कि पलटने का हक़ है

English Sahih:

And he who repents and does righteousness does indeed turn to Allah with [accepted] repentance.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जिस शख्स ने तौबा कर ली और अच्छे अच्छे काम किए तो बेशक उसने ख़ुदा की तरफ (सच्चे दिल से) हक़ीकक़तन रुजु की

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और जिसने क्षमा याचना करली और सदाचार किये, तो वास्तव में, वही अल्लाह की ओर झुक जाता है।