Skip to main content

अल-अनकबूत आयत १५ | Al-Ankabut 29:15

But We saved him
فَأَنجَيْنَٰهُ
तो निजात दी हमने उसे
and (the) people
وَأَصْحَٰبَ
और कश्ती वालों को
(of) the ship
ٱلسَّفِينَةِ
और कश्ती वालों को
and We made it
وَجَعَلْنَٰهَآ
और बना दिया हमने उसे
a Sign
ءَايَةً
एक निशानी
for the worlds
لِّلْعَٰلَمِينَ
तमाम जहान वालों के लिए

Faanjaynahu waashaba alssafeenati waja'alnaha ayatan lil'alameena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फिर उसको और नौकावालों को हमने बचा लिया और उसे सारे संसार के लिए एक निशानी बना दिया

English Sahih:

But We saved him and the companions of the ship, and We made it a sign for the worlds.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

फिर हमने नूह और कश्ती में रहने वालों को बचा लिया और हमने इस वाक़िये को सारी ख़ुदाई के वास्ते (अपनी क़ुदरत की) निशानी क़रार दी

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो हमने बचा लिया उसे और नाव वालों को और बना दिया उसे एक निशानी (शिक्षा), विश्व वासियों के लिए।