Skip to main content

आले इमरान आयत ११४ | Aal-e-Imran 3:114

They believe
يُؤْمِنُونَ
वो ईमान रखते हैं
in Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
and the Day
وَٱلْيَوْمِ
और आख़िरी दिन पर
the Last
ٱلْءَاخِرِ
और आख़िरी दिन पर
and they enjoin
وَيَأْمُرُونَ
और वो हुक्म देते हैं
[with] the right
بِٱلْمَعْرُوفِ
नेकी का
and forbid
وَيَنْهَوْنَ
और वो रोकते हैं
[from]
عَنِ
बुराई से
the wrong
ٱلْمُنكَرِ
बुराई से
and they hasten
وَيُسَٰرِعُونَ
और वो एक दूसरे से जल्दी करते हैं
in
فِى
नेकियों में
the good deeds
ٱلْخَيْرَٰتِ
नेकियों में
And those
وَأُو۟لَٰٓئِكَ
और यही लोग हैं
(are) from
مِنَ
सालेहीन में से
the righteous
ٱلصَّٰلِحِينَ
सालेहीन में से

Yuminoona biAllahi waalyawmi alakhiri wayamuroona bialma'roofi wayanhawna 'ani almunkari wayusari'oona fee alkhayrati waolaika mina alssaliheena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वे अल्लाह और अन्तिम दिन पर ईमान रखते है और नेकी का हुक्म देते और बुराई से रोकते है और नेक कामों में अग्रसर रहते है, और वे अच्छे लोगों में से है

English Sahih:

They believe in Allah and the Last Day, and they enjoin what is right and forbid what is wrong and hasten to good deeds. And those are among the righteous.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

खुदा और रोज़े आख़ेरत पर ईमान रखते हैं और अच्छे काम का तो हुक्म करते हैं और बुरे कामों से रोकते हैं और नेक कामों में दौड़ पड़ते हैं और यही लोग तो नेक बन्दों से हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

अल्लाह तथा अंतिम दिन (प्रलय) पर ईमान रखते हैं, भलाई का आदेश देते हैं, बुराई से रोकते हैं, भलाईयों में अग्रसर रहते हैं और यही सदाचारियों में हैं।