Skip to main content

आले इमरान आयत ११५ | Aal-e-Imran 3:115

And whatever
وَمَا
और जो भी
they do
يَفْعَلُوا۟
वो करेंगे
of
مِنْ
भलाई में से
a good
خَيْرٍ
भलाई में से
then never
فَلَن
तो हरगिज़ नहीं
will they be denied it
يُكْفَرُوهُۗ
वो नाक़द्री किए जाऐंगे उसकी
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) All-Knowing
عَلِيمٌۢ
ख़ूब जानने वाला है
of the God-fearing
بِٱلْمُتَّقِينَ
मुत्तक़ी लोगों को

Wama yaf'aloo min khayrin falan yukfaroohu waAllahu 'aleemun bialmuttaqeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जो नेकी भी वे करेंगे, उसकी अवमानना न होगी। अल्लाह का डर रखनेवालो से भली-भाँति परिचित है

English Sahih:

And whatever good they do – never will it be denied them. And Allah is Knowing of the righteous.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और वह जो कुछ नेकी करेंगे उसकी हरगिज़ नाक़द्री न की जाएगी और ख़ुदा परहेज़गारों से खूब वाक़िफ़ है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वे, जो भी भलाई करेंगे, उसकी उपेक्षा (अनादर) नहीं की जायेगी और अल्लाह आज्ञाकारियों को भली-भाँति जानता है।