Skip to main content

आले इमरान आयत १२० | Aal-e-Imran 3:120

If
إِن
अगर
touches you
تَمْسَسْكُمْ
पहुँचे तुम्हें
a good
حَسَنَةٌ
कोई भलाई
it grieves them
تَسُؤْهُمْ
वो बुरी लगती है उन्हें
and if
وَإِن
और अगर
strikes you
تُصِبْكُمْ
पहुँचती है तुम्हें
misfortune
سَيِّئَةٌ
कोई बुराई
they rejoice
يَفْرَحُوا۟
वो ख़ुश होते हैं
at it
بِهَاۖ
उस पर
And if
وَإِن
और अगर
you are patient
تَصْبِرُوا۟
तुम सब्र करो
and fear (Allah)
وَتَتَّقُوا۟
और तुम तक़वा करो
not
لَا
ना नुक़सान देगी तुम्हें
will harm you
يَضُرُّكُمْ
ना नुक़सान देगी तुम्हें
their plot
كَيْدُهُمْ
चाल उनकी
(in) anything
شَيْـًٔاۗ
कुछ भी
Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
of what
بِمَا
उसको जो
they do
يَعْمَلُونَ
वो अमल करते हैं
(is) All-Encompassing
مُحِيطٌ
घेरने वाला है

In tamsaskum hasanatun tasuhum wain tusibkum sayyiatun yafrahoo biha wain tasbiroo watattaqoo la yadurrukum kayduhum shayan inna Allaha bima ya'maloona muheetun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यदि तुम्हारा कोई भला होता है तो उन्हें बुरा लगता है। परन्तु यदि तुम्हें कोई अप्रिय बात पेश आती है तो उससे वे प्रसन्न हो जाते है। यदि तुमने धैर्य से काम लिया और (अल्लाह का) डर रखा, तो उनकी कोई चाल तुम्हें नुक़सान नहीं पहुँचा सकती। जो कुछ वे कर रहे है, अल्लाह ने उसे अपने धेरे में ले रखा है

English Sahih:

If good touches you, it distresses them; but if harm strikes you, they rejoice at it. And if you are patient and fear Allah, their plot will not harm you at all. Indeed, Allah is encompassing of what they do.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ ईमानदारों) अगर तुमको भलाई छू भी गयी तो उनको बुरा मालूम होता है और जब तुमपर कोई भी मुसीबत पड़ती है तो वह ख़ुश हो जाते हैं और अगर तुम सब्र करो और परहेज़गारी इख्तेयार करो तो उनका फ़रेब तुम्हें कुछ भी ज़रर नहीं पहुंचाएगा (क्योंकि) ख़ुदा तो उनकी कारस्तानियों पर हावी है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

यदि तुम्हारा कुछ भला हो, तो उन्हें बुरा लगता है और यदि तुम्हारा कुछ बुरा हो जाये, तो वे उससे प्रसन्न हो जाते हैं। अलबत्ता, यदि तुम सहन करते रहे और आज्ञाकारी रहे, तो उनका छल तुम्हें कोई हानि नहीं पहुँचायेगा। उनके सभी कर्म अल्लाह के घेरे में हैं।