Skip to main content

आले इमरान आयत १३५ | Aal-e-Imran 3:135

And those
وَٱلَّذِينَ
और वो लोग जो
when
إِذَا
जब
they did
فَعَلُوا۟
करते हैं
immorality
فَٰحِشَةً
कोई बेहयाई
or
أَوْ
या
wronged
ظَلَمُوٓا۟
वो ज़ुल्म करते हैं
themselves -
أَنفُسَهُمْ
अपने नफ़्सों पर
they remember
ذَكَرُوا۟
वो याद करते हैं
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह को
then ask forgiveness
فَٱسْتَغْفَرُوا۟
पस माफ़ी माँगते हैं
for their sins -
لِذُنُوبِهِمْ
अपने गुनाहों के लिए
and who
وَمَن
और कौन है जो
(can) forgive
يَغْفِرُ
बख़्श दे
the sins
ٱلذُّنُوبَ
गुनाहों को
except
إِلَّا
सिवाय
Allah?
ٱللَّهُ
अल्लाह के
And not
وَلَمْ
और नहीं
they persist
يُصِرُّوا۟
वो इसरार करते
on
عَلَىٰ
ऊपर उसके
what
مَا
जो
they did
فَعَلُوا۟
उन्होंने किया
while they
وَهُمْ
जब कि वो
know
يَعْلَمُونَ
वो जानते हैं

Waallatheena itha fa'aloo fahishatan aw thalamoo anfusahum thakaroo Allaha faistaghfaroo lithunoobihim waman yaghfiru alththunooba illa Allahu walam yusirroo 'ala ma fa'aloo wahum ya'lamoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जिनका हाल यह है कि जब वे कोई खुला गुनाह कर बैठते है या अपने आप पर ज़ुल्म करते है तौ तत्काल अल्लाह उन्हें याद आ जाता है और वे अपने गुनाहों की क्षमा चाहने लगते हैं - और अल्लाह के अतिरिक्त कौन है, जो गुनाहों को क्षमा कर सके? और जानते-बूझते वे अपने किए पर अड़े नहीं रहते

English Sahih:

And those who, when they commit an immorality or wrong themselves [by transgression], remember Allah and seek forgiveness for their sins – and who can forgive sins except Allah? – and [who] do not persist in what they have done while they know.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और लोग इत्तिफ़ाक़ से कोई बदकारी कर बैठते हैं या आप अपने ऊपर जुल्म करते हैं तो ख़ुदा को याद करते हैं और अपने गुनाहों की माफ़ी मॉगते हैं और ख़ुदा के सिवा गुनाहों का बख्शने वाला और कौन है और जो (क़ूसूर) वह (नागहानी) कर बैठे तो जानबूझ कर उसपर हट नहीं करते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और जब कभी वे कोई बड़ा पाप कर जायेँ अथवा अपने ऊपर अत्याचार कर लें, तो अल्लाह को याद करते हैं, फिर अपने पापों के लिए क्षमा माँगते हैं -तथा अल्लाह के सिवा कौन है, जो पापों को क्षमा करे?- और अपने किये पर जान-बूझ कर अड़े नहीं रहते।