Skip to main content

आले इमरान आयत ८० | Aal-e-Imran 3:80

And not
وَلَا
और नहीं
he will order you
يَأْمُرَكُمْ
वो हुक्म देता तुम्हें
that
أَن
कि
you take
تَتَّخِذُوا۟
तुम बना लो
the Angels
ٱلْمَلَٰٓئِكَةَ
फ़रिश्तों को
and the Prophets
وَٱلنَّبِيِّۦنَ
और नबियों को
(as) lords
أَرْبَابًاۗ
रब (मुख़्तलिफ़)
Would he order you
أَيَأْمُرُكُم
क्या वो हुक्म देगा तुम्हें
to [the] disbelief
بِٱلْكُفْرِ
कुफ़्र का
after
بَعْدَ
बाद उसके
[when]
إِذْ
जब
you (have become)
أَنتُم
तुम
Muslims?
مُّسْلِمُونَ
मुसलमान हो

Wala yamurakum an tattakhithoo almalaikata waalnnabiyyeena arbaban ayamurukum bialkufri ba'da ith antum muslimoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और न वह तुम्हें इस बात का हुक्म देगा कि तुम फ़रिश्तों और नबियों को अपना रब बना लो। क्या वह तुम्हें अधर्म का हुक्म देगा, जबकि तुम (उसके) आज्ञाकारी हो?

English Sahih:

Nor could he order you to take the angels and prophets as lords. Would he order you to disbelief after you had been Muslims?

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और वह तुमसे ये तो (कभी) न कहेगा कि फ़रिश्तों और पैग़म्बरों को ख़ुदा बना लो भला (कहीं ऐसा हो सकता है कि) तुम्हारे मुसलमान हो जाने के बाद तुम्हें कुफ़्र का हुक्म करेगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा वह तुम्हें कभी आदेश नहीं देगा कि फ़रिश्तों तथा नबियों को अपना पालनहार[1] (पूज्य) बना लो। क्या तुम्हें कुफ़्र करने का आदेश देगा, जबकि तुम अल्लाह के आज्ञाकारी हो?