Skip to main content

अल-अह्जाब आयत ५२ | Al-Ahzab 33:52

(It is) not
لَّا
नहीं हलाल
lawful
يَحِلُّ
नहीं हलाल
for you
لَكَ
आपके लिए
(to marry) women
ٱلنِّسَآءُ
औरतें
after (this)
مِنۢ
बाद उसके
after (this)
بَعْدُ
बाद उसके
and not
وَلَآ
और ना
to
أَن
कि
exchange
تَبَدَّلَ
आप बदल लें
them
بِهِنَّ
उनके बदले
for
مِنْ
कोई और बीवियाँ
(other) wives
أَزْوَٰجٍ
कोई और बीवियाँ
even if
وَلَوْ
और अगरचे
pleases you
أَعْجَبَكَ
पसंद आए आपको
their beauty
حُسْنُهُنَّ
हुसन उनका
except
إِلَّا
मगर
whom
مَا
जिनका
you rightfully possess
مَلَكَتْ
मालिक है
you rightfully possess
يَمِينُكَۗ
दायाँ हाथ आपका
And Allah is
وَكَانَ
और है
And Allah is
ٱللَّهُ
अल्लाह
over
عَلَىٰ
ऊपर
all
كُلِّ
हर
things
شَىْءٍ
चीज़ के
an Observer
رَّقِيبًا
ख़ूब निगरान

La yahillu laka alnnisao min ba'du wala an tabaddala bihinna min azwajin walaw a'jabaka husnuhunna illa ma malakat yameenuka wakana Allahu 'ala kulli shayin raqeeban

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

इसके पश्चात तुम्हारे लिए दूसरी स्त्रियाँ वैध नहीं और न यह कि तुम उनकी जगह दूसरी पत्नियों ले आओ, यद्यपि उनका सौन्दर्य तुम्हें कितना ही भाए। उनकी बात औऱ है जो तुम्हारी लौंडियाँ हो। वास्तव में अल्लाह की स्पष्ट हर चीज़ पर है

English Sahih:

Not lawful to you, [O Muhammad], are [any additional] women after [this], nor [is it] for you to exchange them for [other] wives, even if their beauty were to please you, except what your right hand possesses. And ever is Allah, over all things, an Observer.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) अब उन (नौ) के बाद (और) औरतें तुम्हारे वास्ते हलाल नहीं और न ये जायज़ है कि उनके बदले उनमें से किसी को छोड़कर और बीबियाँ कर लो अगर चे तुमको उनका हुस्न कैसा ही भला (क्यों न) मालूम हो मगर तुम्हारी लौंडियाँ (इस के बाद भी जायज़ हैं) और खुदा तो हर चीज़ का निगरॉ है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(हे नबी!) नहीं ह़लाल (वैध) हैं आपके लिए पत्नियाँ इसके पश्चात् और न ये कि आप बदलें उन्हें दूसरी पत्नियों[1] से, यद्यपि आपको भाये उनका सौन्दर्य। परन्तु, जो दासी आपके स्वामित्व में आ जाये तथा अल्लाह प्रत्येक वस्तु का पूर्ण रक्षक है।