Skip to main content
Say
قُلْ
कह दीजिए
"Only
إِنَّمَآ
बेशक
I advise you
أَعِظُكُم
मैं नसीहत करता हूँ तुम्हें
for one (thing)
بِوَٰحِدَةٍۖ
एक (बात) की
that
أَن
कि
you stand
تَقُومُوا۟
तुम खड़े हो जाओ
for Allah
لِلَّهِ
अल्लाह के लिए
(in) pairs
مَثْنَىٰ
दो-दो
and (as) individuals
وَفُرَٰدَىٰ
और अकेले-अकेले
then
ثُمَّ
फिर
reflect"
تَتَفَكَّرُوا۟ۚ
तुम ग़ौरो फ़िक्र करो
Not
مَا
नहीं
(is in) your companion
بِصَاحِبِكُم
तुम्हारे साथी को
any
مِّن
कोई जुनून
madness
جِنَّةٍۚ
कोई जुनून
Not
إِنْ
नहीं
he
هُوَ
वो
(is) except
إِلَّا
मगर
a warner
نَذِيرٌ
डराने वाला
for you
لَّكُم
तुम्हें
before
بَيْنَ
पहले
before
يَدَىْ
पहले
a punishment
عَذَابٍ
एक अज़ाब
severe"
شَدِيدٍ
सख़्त से

Qul innama a'ithukum biwahidatin an taqoomoo lillahi mathna wafurada thumma tatafakkaroo ma bisahibikum min jinnatin in huwa illa natheerun lakum bayna yaday 'athabin shadeedin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

कहो, 'मैं तुम्हें बस एक बात की नसीहत करता हूँ कि अल्लाह के लिए दो-दो औऱ एक-एक करके उठ रखे हो; फिर विचार करो। तुम्हारे साथी को कोई उन्माद नहीं है। वह तो एक कठोर यातना से पहले तुम्हें सचेत करनेवाला ही है।'

English Sahih:

Say, "I only advise you of one [thing] – that you stand for Allah, [seeking truth] in pairs and individually, and then give thought." There is not in your companion any madness. He is only a warner to you before a severe punishment.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि मैं तुमसे नसीहत की बस एक बात कहता हूँ (वह) ये (है) कि तुम लोग बाज़ खुदा के वास्ते एक-एक और दो-दो उठ खड़े हो और अच्छी तरह ग़ौर करो तो (देख लोगे कि) तुम्हारे रफीक़ (मोहम्मद स0) को किसी तरह का जुनून नहीं वह तो बस तुम्हें एक सख्त अज़ाब (क़यामत) के सामने (आने) से डराने वाला है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

आप कह दें कि मैं बस तुम्हें एक बात की नसीह़त कर रहा हूँ कि तुम अल्लाह के लिए दो-दो तथा अकेले-अकेले खड़े हो जाओ। फिर सोचो। तुम्हारे साथी को कोई पागलपन नहीं है।[1] वह तो बस सचेत करने वाले हैं तुम्हें, आगामी कड़ी यातना से।