Skip to main content

अल-माइदा आयत २५ | Al-Maidah 5:25

He said
قَالَ
कहा
"O my Lord!
رَبِّ
ऐ मेरे रब
Indeed, I
إِنِّى
बेशक मैं
(do) not
لَآ
नहीं मैं मालिक
(have) power
أَمْلِكُ
नहीं मैं मालिक
except
إِلَّا
मगर
(over) myself
نَفْسِى
अपने नफ़्स का
and my brother
وَأَخِىۖ
और अपने भाई का
so (make a) separation
فَٱفْرُقْ
पस जुदाई डाल दे
between us
بَيْنَنَا
दर्मियान हमारे
and between
وَبَيْنَ
और दर्मियान
the people"
ٱلْقَوْمِ
उन लोगों के
(the) defiantly disobedient"
ٱلْفَٰسِقِينَ
जो फ़ासिक़ हैं

Qala rabbi innee la amliku illa nafsee waakhee faofruq baynana wabayna alqawmi alfasiqeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उसने कहा, 'मेरे रब! मेरा स्वयं अपने और अपने भाई के अतिरिक्त किसी पर अधिकार नहीं है। अतः तू हमारे और इन अवज्ञाकारी लोगों के बीच अलगाव पैदा कर दे।'

English Sahih:

[Moses] said, "My Lord, indeed I do not possess [i.e., control] except myself and my brother, so part us from the defiantly disobedient people."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तब मूसा ने अर्ज़ की ख़ुदावन्दा तू ख़ूब वाक़िफ़ है कि अपनी ज़ाते ख़ास और अपने भाई के सिवा किसी पर मेरा क़ाबू नहीं बस अब हमारे और उन नाफ़रमान लोगों के दरमियान जुदाई डाल दे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(ये दशा देखकर) मूसा ने कहः हे मेरे पालनहार! मैं अपने और अपने भाई के सिवा किसी पर कोई अधिकार नहीं रखता। अतः तु हमारे तथा अवज्ञाकारी जाति के बीच निर्णय कर दे।