Skip to main content

अल-माइदा आयत ३४ | Al-Maidah 5:34

Except
إِلَّا
सिवाय
those who
ٱلَّذِينَ
उन लोगों के जो
repent
تَابُوا۟
तौबा करें
from
مِن
इससे क़ब्ल
before
قَبْلِ
इससे क़ब्ल
that
أَن
कि
you overpower
تَقْدِرُوا۟
तुम क़ादिर हो जाओ
[over] them
عَلَيْهِمْۖ
उन पर
then know
فَٱعْلَمُوٓا۟
तो जान लो
that
أَنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) Oft-Forgiving
غَفُورٌ
बहुत बख़्शने वाला है
Most Merciful
رَّحِيمٌ
निहायत रहम करने वाला है

Illa allatheena taboo min qabli an taqdiroo 'alayhim fai'lamoo anna Allaha ghafoorun raheemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

किन्तु जो लोग, इससे पहले कि तुम्हें उनपर अधिकार प्राप्त हो, पलट आएँ (अर्थात तौबा कर लें) तो ऐसी दशा में तुम्हें मालूम होना चाहिए कि अल्लाह बड़ा क्षमाशील, दयावान है

English Sahih:

Except for those who return [repenting] before you overcome [i.e., apprehend] them. And know that Allah is Forgiving and Merciful.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

मगर (हॉ) जिन लोगों ने इससे पहले कि तुम इनपर क़ाबू पाओ तौबा कर लो तो उनका गुनाह बख्श दिया जाएगा क्योंकि समझ लो कि ख़ुदा बेशक बड़ा बख्शने वाला मेहरबान है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

परन्तु जो तौबा (क्षमा याचना) कर लें, इससे पहले कि तुम उन्हें अपने नियंत्रण में लाओ, तो तुम जान लो कि अल्लाह अति क्षमाशील दयावान् है।