Skip to main content

अल-माइदा आयत ३३ | Al-Maidah 5:33

Only
إِنَّمَا
बेशक
(the) recompense
جَزَٰٓؤُا۟
बदला
(for) those who
ٱلَّذِينَ
उनका जो
wage war
يُحَارِبُونَ
जंग करते हैं
(against) Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह से
and His Messenger
وَرَسُولَهُۥ
और उसके रसूल से
and strive
وَيَسْعَوْنَ
और वो दौड़ धूप करते हैं
in
فِى
ज़मीन में
the earth
ٱلْأَرْضِ
ज़मीन में
spreading corruption
فَسَادًا
फ़साद के लिए
(is) that
أَن
ये कि
they be killed
يُقَتَّلُوٓا۟
वो क़त्ल कर दिए जाऐं
or
أَوْ
या
they be crucified
يُصَلَّبُوٓا۟
वो सूली चढ़ा दिए जाऐं
or
أَوْ
या काट दिए जाऐं
be cut off
تُقَطَّعَ
या काट दिए जाऐं
their hands
أَيْدِيهِمْ
हाथ उनके
and their feet
وَأَرْجُلُهُم
और पाँव उनके
of
مِّنْ
मुख़ालिफ़ सिम्त से
opposite sides
خِلَٰفٍ
मुख़ालिफ़ सिम्त से
or
أَوْ
या वो निकाल दिए जाऐं
they be exiled
يُنفَوْا۟
या वो निकाल दिए जाऐं
from
مِنَ
उस ज़मीन से
the land
ٱلْأَرْضِۚ
उस ज़मीन से
That
ذَٰلِكَ
ये
(is) for them
لَهُمْ
उनके लिए
disgrace
خِزْىٌ
रुस्वाई है
in
فِى
दुनिया में
the world
ٱلدُّنْيَاۖ
दुनिया में
and for them
وَلَهُمْ
और उनके लिए
in
فِى
आख़िरत में
the Hereafter
ٱلْءَاخِرَةِ
आख़िरत में
(is) a punishment
عَذَابٌ
अज़ाब है
great
عَظِيمٌ
बहुत बड़ा

Innama jazao allatheena yuhariboona Allaha warasoolahu wayas'awna fee alardi fasadan an yuqattaloo aw yusallaboo aw tuqatta'a aydeehim waarjuluhum min khilafin aw yunfaw mina alardi thalika lahum khizyun fee alddunya walahum fee alakhirati 'athabun 'atheemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जो लोग अल्लाह और उसके रसूल से लड़ते है और धरती के लिए बिगाड़ पैदा करने के लिए दौड़-धूप करते है, उनका बदला तो बस यही है कि बुरी तरह से क़त्ल किए जाए या सूली पर चढ़ाए जाएँ या उनके हाथ-पाँव विपरीत दिशाओं में काट डाले जाएँ या उन्हें देश से निष्कासित कर दिया जाए। यह अपमान और तिरस्कार उनके लिए दुनिया में है और आख़िरत में उनके लिए बड़ी यातना है

English Sahih:

Indeed, the penalty for those who wage war against Allah and His Messenger and strive upon earth [to cause] corruption is none but that they be killed or crucified or that their hands and feet be cut off from opposite sides or that they be exiled from the land. That is for them a disgrace in this world; and for them in the Hereafter is a great punishment,

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जो लोग ख़ुदा और उसके रसूल से लड़ते भिड़ते हैं (और एहकाम को नहीं मानते) और फ़साद फैलाने की ग़रज़ से मुल्को (मुल्को) दौड़ते फिरते हैं उनकी सज़ा बस यही है कि (चुन चुनकर) या तो मार डाले जाएं या उन्हें सूली दे दी जाए या उनके हाथ पॉव हेर फेर कर एक तरफ़ का हाथ दूसरी तरफ़ का पॉव काट डाले जाएं या उन्हें (अपने वतन की) सरज़मीन से शहर बदर कर दिया जाए यह रूसवाई तो उनकी दुनिया में हुई और फिर आख़ेरत में तो उनके लिए बहुत बड़ा अज़ाब ही है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जो लोग[1] अल्लाह और उसके रसूल से युध्द करते हों तथा धरती में उपद्रव करते फिर रहे हों, उनका दण्ड ये है कि उनकी हत्या की जाये तथा उन्हें फाँसी दी जाये अथवा उनके हाथ-पाँव विपरीत दिशाओं से काट दिये जायें अथवा उन्हें देश निकाला दे दिया जाये। ये उनके लिए संसार में अपमान है तथा परलोक में उनके लिए इससे बड़ा दण्ड है।