Skip to main content

अल-माइदा आयत ३२ | Al-Maidah 5:32

From
مِنْ
बवजह
time
أَجْلِ
बवजह
that
ذَٰلِكَ
उसके
We ordained
كَتَبْنَا
लिख दिया हमने
on
عَلَىٰ
बनी इस्राईल पर
(the) Children
بَنِىٓ
बनी इस्राईल पर
(of) Israel
إِسْرَٰٓءِيلَ
बनी इस्राईल पर
that he
أَنَّهُۥ
कि बेशक वो
who
مَن
जिसने
kills
قَتَلَ
क़त्ल किया
a person
نَفْسًۢا
किसी जान को
other than
بِغَيْرِ
बग़ैर
(for) a life
نَفْسٍ
किसी जान के
or
أَوْ
या
(for) spreading corruption
فَسَادٍ
फ़साद करने के
in
فِى
ज़मीन में
the earth
ٱلْأَرْضِ
ज़मीन में
then (it) is as if
فَكَأَنَّمَا
तो गोया कि
he has killed
قَتَلَ
उसने क़त्ल कर दिया
mankind
ٱلنَّاسَ
लोगों को
all
جَمِيعًا
सबके-सबको
and whoever
وَمَنْ
और जिसने
saves it
أَحْيَاهَا
ज़िन्दगी बचाई उसकी
then (it) is as if
فَكَأَنَّمَآ
तो गोया कि
he has saved
أَحْيَا
उसने ज़िन्दा किया
mankind
ٱلنَّاسَ
लोगों को
all
جَمِيعًاۚ
सबके-सबको
And surely
وَلَقَدْ
और अलबत्ता तहक़ीक़
came to them
جَآءَتْهُمْ
आए उनके पास
Our Messengers
رُسُلُنَا
रसूल हमारे
with clear Signs
بِٱلْبَيِّنَٰتِ
साथ वाज़ेह निशानियों के
yet
ثُمَّ
फिर
indeed
إِنَّ
बेशक
many
كَثِيرًا
बहुत से
of them
مِّنْهُم
उनमें से
after
بَعْدَ
बाद
that
ذَٰلِكَ
उसके
in
فِى
ज़मीन में
the earth
ٱلْأَرْضِ
ज़मीन में
(are) surely those who commit excesses
لَمُسْرِفُونَ
अलबत्ता ज़्यादती करने वाले हैं

Min ajli thalika katabna 'ala banee israeela annahu man qatala nafsan bighayri nafsin aw fasadin fee alardi fakaannama qatala alnnasa jamee'an waman ahyaha fakaannama ahya alnnasa jamee'an walaqad jaa thum rusuluna bialbayyinati thumma inna katheeran minhum ba'da thalika fee alardi lamusrifoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

इसी कारण हमने इसराईल का सन्तान के लिए लिख दिया था कि जिसने किसी व्यक्ति को किसी के ख़ून का बदला लेने या धरती में फ़साद फैलाने के अतिरिक्त किसी और कारण से मार डाला तो मानो उसने सारे ही इनसानों की हत्या कर डाली। और जिसने उसे जीवन प्रदान किया, उसने मानो सारे इनसानों को जीवन दान किया। उसने पास हमारे रसूल स्पष्टि प्रमाण ला चुके हैं, फिर भी उनमें बहुत-से लोग धरती में ज़्यादतियाँ करनेवाले ही हैं

English Sahih:

Because of that, We decreed upon the Children of Israel that whoever kills a soul unless for a soul or for corruption [done] in the land – it is as if he had slain mankind entirely. And whoever saves one – it is as if he had saved mankind entirely. And Our messengers had certainly come to them with clear proofs. Then indeed many of them, [even] after that, throughout the land, were transgressors.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

इसी सबब से तो हमने बनी इसराईल पर वाजिब कर दिया था कि जो शख्स किसी को न जान के बदले में और न मुल्क में फ़साद फैलाने की सज़ा में (बल्कि नाहक़) क़त्ल कर डालेगा तो गोया उसने सब लोगों को क़त्ल कर डाला और जिसने एक आदमी को जिला दिया तो गोया उसने सब लोगों को जिला लिया और उन (बनी इसराईल) के पास तो हमारे पैग़म्बर (कैसे कैसे) रौशन मौजिज़े लेकर आ चुके हैं (मगर) फिर उसके बाद भी यक़ीनन उसमें से बहुतेरे ज़मीन पर ज्यादतियॉ करते रहे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

इसी कारण हमने बनी इस्राईल पर लिख दिया[1] कि जिसने भी किसी प्राणी की हत्या की, किसी प्राणी का ख़ून करने अथवा धरती में विद्रोह के बिना, तो समझो उसने पूरे मनुष्यों की हत्या[2] कर दी और जिसने जीवित रखा एक प्राणी को, तो वास्तव में, उसने जीवित रखा सभी मनुष्यों को तथा उनके पास हमारे रसूल खुली निशानियाँ लाये, फिर भी उनमें से अधिकांश धरती में विद्रोह करने वाले हैं।