Skip to main content

अल-वाकिया आयत ८२ | Al-Waqi’ah 56:82

And you make
وَتَجْعَلُونَ
और तुम बनाते हो
your provision
رِزْقَكُمْ
हिस्सा अपना
that you
أَنَّكُمْ
ये कि तुम
deny
تُكَذِّبُونَ
तुम झुठलाते हो

Wataj'aloona rizqakum annakum tukaththiboona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और तुम इसको अपनी वृत्ति बना रहे हो कि झुठलाते हो?

English Sahih:

And make [the thanks for] your provision that you deny [the Provider]?

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और तुमने अपनी रोज़ी ये करार दे ली है कि (उसको) झुठलाते हो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा बनाते हो अपना भाग कि इसे तुम झुठलाते हो?