Skip to main content

अल-अनाम आयत ११९ | Al-Anam 6:119

And what
وَمَا
और क्या है
for you
لَكُمْ
तुम्हें
that not
أَلَّا
कि नहीं
you eat
تَأْكُلُوا۟
तुम खाते
of what
مِمَّا
उसमें से जो
has been mentioned
ذُكِرَ
ज़िक्र किया गया
(the) name
ٱسْمُ
नाम
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह का
on it
عَلَيْهِ
उस पर
when indeed
وَقَدْ
हालाँकि तहक़ीक़
He (has) explained in detail
فَصَّلَ
उसने खोलकर बयान किया
to you
لَكُم
तुम्हारे लिए
what
مَّا
जो
He (has) forbidden
حَرَّمَ
उसने हराम किया
to you
عَلَيْكُمْ
तुम पर
except
إِلَّا
मगर
what
مَا
वो जो
you are compelled
ٱضْطُرِرْتُمْ
मजबूर कर दिए जाओ तुम
to it
إِلَيْهِۗ
तरफ़ उसके
And indeed
وَإِنَّ
और बेशक
many
كَثِيرًا
अक्सर लोग
surely lead astray
لَّيُضِلُّونَ
अलबत्ता वो गुमराह करते हैं
by their (vain) desires
بِأَهْوَآئِهِم
अपनी ख़्वाहिशात के ज़रिए
without
بِغَيْرِ
बग़ैर
knowledge
عِلْمٍۗ
इल्म के
Indeed
إِنَّ
बेशक
your Lord
رَبَّكَ
रब आपका
He
هُوَ
वो
(is) most knowing
أَعْلَمُ
ज़्यादा जानने वाला है
of the transgressors
بِٱلْمُعْتَدِينَ
हद से तजावुज़ करने वालों को

Wama lakum alla takuloo mimma thukira ismu Allahi 'alayhi waqad fassala lakum ma harrama 'alaykum illa ma idturirtum ilayhi wainna katheeran layudilloona biahwaihim bighayri 'ilmin inna rabbaka huwa a'lamu bialmu'tadeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और क्या आपत्ति है कि तुम उसे न खाओ, जिसपर अल्लाह का नाम लिया गया हो, बल्कि जो कुछ चीज़े उसने तुम्हारे लिए हराम कर दी है, उनको उसने विस्तारपूर्वक तुम्हे बता दिया है। यह और बात है कि उसके लिए कभी तुम्हें विवश होना पड़े। परन्तु अधिकतर लोग तो ज्ञान के बिना केवल अपनी इच्छाओं (ग़लत विचारों) के द्वारा पथभ्रष्टो करते रहते है। निस्सन्देह तुम्हारा रब मर्यादाहीन लोगों को भली-भाँति जानता है

English Sahih:

And why should you not eat of that upon which the name of Allah has been mentioned while He has explained in detail to you what He has forbidden you, excepting that to which you are compelled. And indeed do many lead [others] astray through their [own] inclinations without knowledge. Indeed, your Lord – He is most knowing of the transgressors.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और तुम्हें क्या हो गया है कि जिस पर ख़ुदा का नाम लिया गया हो उसमें नहीं खाते हो हालॉकि जो चीज़ें उसने तुम पर हराम कर दीं हैं वह तुमसे तफसीलन बयान कर दीं हैं मगर (हाँ) जब तुम मजबूर हो तो अलबत्ता (हराम भी खा सकते हो) और बहुतेरे तो (ख्वाहमख्वाह) अपनी नफसानी ख्वाहिशों से बे समझे बूझे (लोगों को) बहका देते हैं और तुम्हारा परवरदिगार तो हक़ से तजाविज़ करने वालों से ख़ूब वाक़िफ है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और तुम्हारे, उसमें से न खाने का क्या कारण है, जिसपर अल्लाह का नाम लिया गया[1] हो, जबकि उसने तुम्हारे लिए स्पष्ट कर दिया है, जिसे तुमपर ह़राम (अवैध) किया है? परन्तु जिस (वर्जित) के (खाने के पर) विवश कर दिये जाओ[2] और वास्तव में, बहुत-से लोग अपनी मनमानी के लिए, लोगों को अपनी अज्ञानता के कारण बहकाते हैं। निश्चय आपका पालनहार उल्लंघनकारियों को भली-भाँति जानता है।