Skip to main content

अल-अनाम आयत ४६ | Al-Anam 6:46

Say
قُلْ
कह दीजिए
"Have you seen
أَرَءَيْتُمْ
क्या ग़ौर किया तुमने
if
إِنْ
अगर
took away
أَخَذَ
ले जाए
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
your hearing
سَمْعَكُمْ
कान तुम्हारे
and your sight
وَأَبْصَٰرَكُمْ
और आँखें तुम्हारी
and sealed
وَخَتَمَ
और वो मोहर लगा दे
[on]
عَلَىٰ
तुम्हारे दिलों पर
your hearts
قُلُوبِكُم
तुम्हारे दिलों पर
who
مَّنْ
कौन है
(is the) god
إِلَٰهٌ
इलाह
other than
غَيْرُ
सिवाय
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के
to bring [back] to you?
يَأْتِيكُم
जो लाए तुम्हारे पास
with it?
بِهِۗ
उसे
See
ٱنظُرْ
देखो
how
كَيْفَ
किस तरह
We explain
نُصَرِّفُ
हम फेर-फेर कर लाते हैं
the Signs
ٱلْءَايَٰتِ
आयात को
yet
ثُمَّ
फिर
they
هُمْ
वो
turn away"
يَصْدِفُونَ
वो ऐराज़ करते हैं

Qul araaytum in akhatha Allahu sam'akum waabsarakum wakhatama 'ala quloobikum man ilahun ghayru Allahi yateekum bihi onthur kayfa nusarrifu alayati thumma hum yasdifoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

कहो, 'क्या तुमने यह भी सोचा कि यदि अल्लाह तुम्हारे सुनने की और तुम्हारी देखने की शक्ति छीन ले और तुम्हारे दिलों पर ठप्पा लगा दे, तो अल्लाह के सिवा कौन पूज्य है जो तुम्हें ये चीज़े लाकर दे?' देखो, किस प्रकार हम तरह-तरह से अपनी निशानियाँ बयान करते है! फिर भी वे किनारा ही खींचते जाते है

English Sahih:

Say, "Have you considered: if Allah should take away your hearing and your sight and set a seal upon your hearts, which deity other than Allah could bring them [back] to you?" Look how We diversify the verses; then they [still] turn away.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(कि क़िस्सा पाक हुआ) (ऐ रसूल) उनसे पूछो तो कि क्या तुम ये समझते हो कि अगर ख़ुदा तुम्हारे कान और तुम्हारी ऑंखे लें ले और तुम्हारे दिलों पर मोहर कर दे तो ख़ुदा के सिवा और कौन मौजूद है जो (फिर) तुम्हें ये नेअमतें (वापस) दे (ऐ रसूल) देखो तो हम किस किस तरह अपनी दलीले बयान करते हैं इस पर भी वह लोग मुँह मोडे ज़ाते हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(हे नबी!) आप कहें कि क्या तुमने इसपर भी विचार किया कि यदि अल्लाह तुम्हारे सुनने तथा देखने की शक्ति छीन ले और तुम्हारे दिलों पर मुहर लगा दे, तो अल्लाह के सिवा कौन है, जो तुम्हें इसे वापस दिला सके? देखो, हम कैसे बार-बार आयतें[1] प्रस्तुत कर रहे हैं, फिर भी वे मुँह[2] फेर रहे हैं।