Skip to main content

अल-मुमताहिना आयत २ | Al-Mumtahanah 60:2

If
إِن
अगर
they gain dominance over you
يَثْقَفُوكُمْ
वो पा लें तुम्हें
they would be
يَكُونُوا۟
होंगे वो
to you
لَكُمْ
तुम्हारे
enemies
أَعْدَآءً
दुश्मन
and extend
وَيَبْسُطُوٓا۟
और वो दराज़ करेंगे
against you
إِلَيْكُمْ
तरफ़ तुम्हारे
their hands
أَيْدِيَهُمْ
हाथ अपने
and their tongues
وَأَلْسِنَتَهُم
और ज़बानें अपनी
with evil
بِٱلسُّوٓءِ
साथ बुराई के
and they desire
وَوَدُّوا۟
और वो चाहेंगे
that
لَوْ
काश
you would disbelieve
تَكْفُرُونَ
तुम कुफ़्र करो

In yathqafookum yakoonoo lakam a'daan wayabsutoo ilaykum aydiyahum waalsinatahum bialssooi wawaddoo law takfuroona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यदि वे तुम्हें पा जाएँ तो तुम्हारे शत्रु हो जाएँ और कष्ट पहुँचाने के लिए तुमपर हाथ और ज़बान चलाएँ। वे तो चाहते है कि काश! तुम भी इनकार करनेवाले हो जाओ

English Sahih:

If they gain dominance over you, they would be [i.e., behave] to you as enemies and extend against you their hands and their tongues with evil, and they wish you would disbelieve.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

अगर ये लोग तुम पर क़ाबू पा जाएँ तो तुम्हारे दुश्मन हो जाएँ और ईज़ा के लिए तुम्हारी तरफ अपने हाथ भी बढ़ाएँगे और अपनी ज़बाने भी और चाहते हैं कि काश तुम भी काफिर हो जाओ

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और यदि वश में पा जायें तुम्हें, तो तुम्हारे शत्रु बन जायें तथा तुम्हें अपने हाथों और ज़ुबानों से दुःख पहुँचायें और चाहने लगेंगे कि तुम (फिर) काफ़िर हो जाओ।