Skip to main content
bismillah
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए हो
لَا
ना तुम बनाओ
تَتَّخِذُوا۟
ना तुम बनाओ
عَدُوِّى
मेरे दुश्मनों
وَعَدُوَّكُمْ
और अपने दुश्मनों क
أَوْلِيَآءَ
दोस्त
تُلْقُونَ
तुम डालते हो
إِلَيْهِم
तरफ़ उनके
بِٱلْمَوَدَّةِ
दोस्ती (का पैग़ाम)
وَقَدْ
हालाँकि तहक़ीक़
كَفَرُوا۟
उन्होंने इन्कार किया
بِمَا
उसका जो
جَآءَكُم
आया तुम्हारे पास
مِّنَ
हक़ में से
ٱلْحَقِّ
हक़ में से
يُخْرِجُونَ
वो निकालते हैं
ٱلرَّسُولَ
रसूल को
وَإِيَّاكُمْۙ
और तुम्हें
أَن
कि
تُؤْمِنُوا۟
तुम ईमान लाए हो
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
رَبِّكُمْ
जो रब है तुम्हारा
إِن
अगर
كُنتُمْ
हो तुम
خَرَجْتُمْ
निकले तुम
جِهَٰدًا
जिहाद के लिए
فِى
मेरे रास्ते में
سَبِيلِى
मेरे रास्ते में
وَٱبْتِغَآءَ
और चाहने को
مَرْضَاتِىۚ
रज़ामन्दी मेरी
تُسِرُّونَ
तुम छुपा कर भेजते हो
إِلَيْهِم
तरफ़ उनके
بِٱلْمَوَدَّةِ
दोस्ती (का पैग़ाम)
وَأَنَا۠
और मैं
أَعْلَمُ
ख़ूब जानता हूँ
بِمَآ
उसे जो
أَخْفَيْتُمْ
छुपाया तुमने
وَمَآ
और जो
أَعْلَنتُمْۚ
ज़ाहिर किया तुमने
وَمَن
और जो कोई
يَفْعَلْهُ
करेगा उसे
مِنكُمْ
तुम में से
فَقَدْ
तो तहक़ीक़
ضَلَّ
वो भटक गया
سَوَآءَ
सीधे
ٱلسَّبِيلِ
रास्ते से

Ya ayyuha allatheena amanoo la tattakhithoo 'aduwwee wa'aduwwakum awliyaa tulqoona ilayhim bialmawaddati waqad kafaroo bima jaakum mina alhaqqi yukhrijoona alrrasoola waiyyakum an tuminoo biAllahi rabbikum in kuntum kharajtum jihadan fee sabeelee waibtighaa mardatee tusirroona ilayhim bialmawaddati waana a'lamu bima akhfaytum wama a'lantum waman yaf'alhu minkum faqad dalla sawaa alssabeeli

ऐ ईमान लानेवालो! यदि तुम मेरे मार्ग में जिहाद के लिए और मेरी प्रसन्नता की तलाश में निकले हो तो मेरे शत्रुओं और अपने शत्रुओं को मित्र न बनाओ कि उनके प्रति प्रेम दिखाओं, जबकि तुम्हारे पास जो सत्य आया है उसका वे इनकार कर चुके है। वे रसूल को और तुम्हें इसलिए निर्वासित करते है कि तुम अपने रब - अल्लाह पर ईमान लाए हो। तुम गुप्त रूप से उनसे मित्रता की बातें करते हो। हालाँकि मैं भली-भाँति जानता हूँ जो कुछ तुम छिपाते हो और व्यक्त करते हो। और जो कोई भी तुममें से भटक गया

Tafseer (तफ़सीर )
إِن
अगर
يَثْقَفُوكُمْ
वो पा लें तुम्हें
يَكُونُوا۟
होंगे वो
لَكُمْ
तुम्हारे
أَعْدَآءً
दुश्मन
وَيَبْسُطُوٓا۟
और वो दराज़ करेंगे
إِلَيْكُمْ
तरफ़ तुम्हारे
أَيْدِيَهُمْ
हाथ अपने
وَأَلْسِنَتَهُم
और ज़बानें अपनी
بِٱلسُّوٓءِ
साथ बुराई के
وَوَدُّوا۟
और वो चाहेंगे
لَوْ
काश
تَكْفُرُونَ
तुम कुफ़्र करो

In yathqafookum yakoonoo lakam a'daan wayabsutoo ilaykum aydiyahum waalsinatahum bialssooi wawaddoo law takfuroona

यदि वे तुम्हें पा जाएँ तो तुम्हारे शत्रु हो जाएँ और कष्ट पहुँचाने के लिए तुमपर हाथ और ज़बान चलाएँ। वे तो चाहते है कि काश! तुम भी इनकार करनेवाले हो जाओ

Tafseer (तफ़सीर )
لَن
हरगिज़ नहीं
تَنفَعَكُمْ
फ़ायदा देंगी तुम्हें
أَرْحَامُكُمْ
रिश्तेदारियाँ तुम्हारी
وَلَآ
और ना
أَوْلَٰدُكُمْۚ
औलाद तुम्हारी
يَوْمَ
दिन
ٱلْقِيَٰمَةِ
क़यामत के
يَفْصِلُ
वो फ़ैसला करेगा
بَيْنَكُمْۚ
दर्मियान तुम्हारे
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
بِمَا
उस जो
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो
بَصِيرٌ
ख़ूब देखने वाला है

Lan tanfa'akum arhamukum wala awladukum yawma alqiyamati yafsilu baynakum waAllahu bima ta'maloona baseerun

क़ियामत के दिन तुम्हारी नातेदारियाँ कदापि तुम्हें लाभ न पहुँचाएँगी और न तुम्हारी सन्तान ही। उस दिन वह (अल्लाह) तुम्हारे बीच जुदाई डाल देगा। जो कुछ भी तुम करते हो अल्लाह उसे देख रहा होता है

Tafseer (तफ़सीर )
قَدْ
तहक़ीक़
كَانَتْ
है
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
أُسْوَةٌ
नमूना
حَسَنَةٌ
अच्छा
فِىٓ
इब्राहीम में
إِبْرَٰهِيمَ
इब्राहीम में
وَٱلَّذِينَ
और उन लोगों में जो
مَعَهُۥٓ
उसके साथ थे
إِذْ
जब
قَالُوا۟
उन्होंने कहा
لِقَوْمِهِمْ
अपनी क़ौम से
إِنَّا
बेशक हम
بُرَءَٰٓؤُا۟
बेज़ार हैं
مِنكُمْ
तुम से
وَمِمَّا
और उनसे जिन्हें
تَعْبُدُونَ
तुम पूजते हो
مِن
सिवाए
دُونِ
सिवाए
ٱللَّهِ
अल्लाह के
كَفَرْنَا
इन्कार किया हमने
بِكُمْ
तुम्हारा
وَبَدَا
और ज़ाहिर हो गई
بَيْنَنَا
दर्मियान हमारे
وَبَيْنَكُمُ
और दर्मियान तुम्हारे
ٱلْعَدَٰوَةُ
अदावत
وَٱلْبَغْضَآءُ
और बुग़्ज़
أَبَدًا
हमेशा के लिए
حَتَّىٰ
यहाँ तक कि
تُؤْمِنُوا۟
तुम ईमान लाओ
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
وَحْدَهُۥٓ
अकेले उसी पर
إِلَّا
मगर
قَوْلَ
कहना
إِبْرَٰهِيمَ
इब्राहीम का
لِأَبِيهِ
अपने वालिद से
لَأَسْتَغْفِرَنَّ
अलबत्ता मैं ज़रूर बख़्शिश माँगूँगा
لَكَ
तेरे लिए
وَمَآ
और नहीं
أَمْلِكُ
मैं मालिक
لَكَ
तेरे लिए
مِنَ
अल्लाह से
ٱللَّهِ
अल्लाह से
مِن
किसी चीज़ का
شَىْءٍۖ
किसी चीज़ का
رَّبَّنَا
ऐ हमारे रब
عَلَيْكَ
तुझ पर ही
تَوَكَّلْنَا
तवक्कुल किया हमने
وَإِلَيْكَ
और तरफ़ तेरे ही
أَنَبْنَا
रुजूअ किया हमने
وَإِلَيْكَ
और तरफ़ तेरे ही
ٱلْمَصِيرُ
लौटना है

Qad kanat lakum oswatun hasanatun fee ibraheema waallatheena ma'ahu ith qaloo liqawmihim inna buraao minkum wamimma ta'budoona min dooni Allahi kafarna bikum wabada baynana wabaynakumu al'adawatu waalbaghdao abadan hatta tuminoo biAllahi wahdahu illa qawla ibraheema liabeehi laastaghfiranna laka wama amliku laka mina Allahi min shayin rabbana 'alayka tawakkalna wailayka anabna wailayka almaseeru

तुम लोगों के लिए इबराहीम में और उन लोगों में जो उसके साथ थे अच्छा आदर्श है, जबकि उन्होंने अपनी क़ौम के लोगों से कह दिया कि 'हम तुमसे और अल्लाह से हटकर जिन्हें तुम पूजते हो उनसे विरक्त है। हमने तुम्हारा इनकार किया और हमारे और तुम्हारे बीच सदैव के लिए वैर और विद्वेष प्रकट हो चुका जब तक अकेले अल्लाह पर तुम ईमान न लाओ।' इूबराहीम का अपने बाप से यह कहना अपवाद है कि 'मैं आपके लिए क्षमा की प्रार्थना अवश्य करूँगा, यद्यपि अल्लाह के मुक़ाबले में आपके लिए मैं किसी चीज़ पर अधिकार नहीं रखता।' 'ऐ हमारे रब! हमने तुझी पर भरोसा किया और तेरी ही ओर रुजू हुए और तेरी ही ओर अन्त में लौटना हैं। -

Tafseer (तफ़सीर )
رَبَّنَا
ऐ हमारे रब
لَا
ना तू बना हमें
تَجْعَلْنَا
ना तू बना हमें
فِتْنَةً
फ़ितना / आज़माइश
لِّلَّذِينَ
उनके लिए जिन्होंने
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
وَٱغْفِرْ
और बख़्शदे
لَنَا
हमें
رَبَّنَآۖ
ऐ हमारे रब
إِنَّكَ
बेशक तू
أَنتَ
तू ही है
ٱلْعَزِيزُ
बहुत ज़बरदस्त
ٱلْحَكِيمُ
ख़ूब हिकमत वाला

Rabbana la taj'alna fitnatan lillatheena kafaroo waighfir lana rabbana innaka anta al'azeezu alhakeemu

'ऐ हमारे रब! हमें इनकार करनेवालों के लिए फ़ितना न बना और ऐ हमारे रब! हमें क्षमा कर दे। निश्चय ही तू प्रभुत्वशाली, तत्वदर्शी है।'

Tafseer (तफ़सीर )
لَقَدْ
अलबत्ता तहक़ीक़
كَانَ
है
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
فِيهِمْ
उनमें
أُسْوَةٌ
नमूना
حَسَنَةٌ
अच्छा
لِّمَن
उसके लिए जो
كَانَ
हो वो
يَرْجُوا۟
वो उम्मीद रखता
ٱللَّهَ
अल्लाह (से मुलाक़ात ) की
وَٱلْيَوْمَ
और आख़िरी दिन की
ٱلْءَاخِرَۚ
और आख़िरी दिन की
وَمَن
और जो कोई
يَتَوَلَّ
मुँह मोड़ जाए
فَإِنَّ
तो बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
هُوَ
वो ही है
ٱلْغَنِىُّ
बहुत बेनियाज़
ٱلْحَمِيدُ
ख़ूब तारीफ़ वाला

Laqad kana lakum feehim oswatun hasanatun liman kana yarjoo Allaha waalyawma alakhira waman yatawalla fainna Allaha huwa alghanniyyu alhameedu

निश्चय ही तुम्हारे लिए उनमें अच्छा आदर्श है और हर उस व्यक्ति के लिए जो अल्लाह और अंतिम दिन की आशा रखता हो। और जो कोई मुँह फेरे तो अल्लाह तो निस्पृह, अपने आप में स्वयं प्रशंसित है

Tafseer (तफ़सीर )
عَسَى
उम्मीद है
ٱللَّهُ
अल्लाह
أَن
कि
يَجْعَلَ
वो डाल दे
بَيْنَكُمْ
दर्मियान तुम्हारे
وَبَيْنَ
और दर्मियान
ٱلَّذِينَ
उनके जिनसे
عَادَيْتُم
अदावत रखते हो तुम
مِّنْهُم
उनमें से
مَّوَدَّةًۚ
दोस्ती
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
قَدِيرٌۚ
ख़ूब क़ुदरत वाला है
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
غَفُورٌ
बहुत बख़्शने वाला है
رَّحِيمٌ
निहायत रहम करने वाला है

'asa Allahu an yaj'ala baynakum wabayna allatheena 'adaytum minhum mawaddatan waAllahu qadeerun waAllahu ghafoorun raheemun

आशा है कि अल्लाह तुम्हारे और उनके बीच, जिनके बीच, जिनसे तुमने शत्रुता मोल ली है, प्रेम-भाव उत्पन्न कर दे। अल्लाह बड़ी सामर्थ्य रखता है और अल्लाह बहुत क्षमाशील, अत्यन्त दयावान है

Tafseer (तफ़सीर )
لَّا
नहीं रोकता तुम्हें
يَنْهَىٰكُمُ
नहीं रोकता तुम्हें
ٱللَّهُ
अल्लाह
عَنِ
उन लोगों से
ٱلَّذِينَ
उन लोगों से
لَمْ
नहीं
يُقَٰتِلُوكُمْ
उन्होंने जंग की तुमसे
فِى
दीन के मामले में
ٱلدِّينِ
दीन के मामले में
وَلَمْ
और नहीं
يُخْرِجُوكُم
उन्होंने निकाला तुम्हें
مِّن
तुम्हारे घरों से
دِيَٰرِكُمْ
तुम्हारे घरों से
أَن
कि
تَبَرُّوهُمْ
तुम नेकी करो उनसे
وَتُقْسِطُوٓا۟
और तुम इन्साफ़ करो
إِلَيْهِمْۚ
उनसे
إِنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
يُحِبُّ
वो पसंद करता है
ٱلْمُقْسِطِينَ
इन्साफ़ करने वालों को

La yanhakumu Allahu 'ani allatheena lam yuqatilookum fee alddeeni walam yukhrijookum min diyarikum an tabarroohum watuqsitoo ilayhim inna Allaha yuhibbu almuqsiteena

अल्लाह तुम्हें इससे नहीं रोकता कि तुम उन लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करो और उनके साथ न्याय करो, जिन्होंने तुमसे धर्म के मामले में युद्ध नहीं किया और न तुम्हें तुम्हारे अपने घरों से निकाला। निस्संदेह अल्लाह न्याय करनेवालों को पसन्द करता है

Tafseer (तफ़सीर )
إِنَّمَا
बेशक
يَنْهَىٰكُمُ
रोकता है तुम्हें
ٱللَّهُ
अल्लाह
عَنِ
उनसे जिन्होंने
ٱلَّذِينَ
उनसे जिन्होंने
قَٰتَلُوكُمْ
जंग की तुमसे
فِى
दीन के मामले में
ٱلدِّينِ
दीन के मामले में
وَأَخْرَجُوكُم
और उन्होंने निकाला तुम्हें
مِّن
तुम्हारे घरों से
دِيَٰرِكُمْ
तुम्हारे घरों से
وَظَٰهَرُوا۟
और उन्होंने एक दूसरे की मदद की
عَلَىٰٓ
तुम्हारे निकालने पर
إِخْرَاجِكُمْ
तुम्हारे निकालने पर
أَن
कि
تَوَلَّوْهُمْۚ
तुम दोस्ती करो उनसे
وَمَن
और जो कोई
يَتَوَلَّهُمْ
दोस्ती करेगा उनसे
فَأُو۟لَٰٓئِكَ
तो यही लोग हैं
هُمُ
वो
ٱلظَّٰلِمُونَ
जो ज़ालिम हैं

Innama yanhakumu Allahu 'ani allatheena qatalookum fee alddeeni waakhrajookum min diyarikum wathaharoo 'ala ikhrajikum an tawallawhum waman yatawallahum faolaika humu alththalimoona

अल्लाह तो तुम्हें केवल उन लोगों से मित्रता करने से रोकता है जिन्होंने धर्म के मामले में तुमसे युद्ध किया और तुम्हें तुम्हारे अपने घरों से निकाला और तुम्हारे निकाले जाने के सम्बन्ध में सहायता की। जो लोग उनसे मित्रता करें वही ज़ालिम है

Tafseer (तफ़सीर )
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
ءَامَنُوٓا۟
ईमान लाए हो
إِذَا
जब
جَآءَكُمُ
आ जाऐं तुम्हारे पास
ٱلْمُؤْمِنَٰتُ
मोमिन औरतें
مُهَٰجِرَٰتٍ
हिजरत करने वालियाँ
فَٱمْتَحِنُوهُنَّۖ
तो इम्तिहान लो उनका
ٱللَّهُ
अल्लाह
أَعْلَمُ
ख़ूब जानता है
بِإِيمَٰنِهِنَّۖ
उनके ईमान को
فَإِنْ
फिर अगर
عَلِمْتُمُوهُنَّ
जान लो तुम उन्हें
مُؤْمِنَٰتٍ
ईमान वालियाँ
فَلَا
तो ना
تَرْجِعُوهُنَّ
तुम लौटाओ उन्हें
إِلَى
तरफ़ कुफ़्फ़ार के
ٱلْكُفَّارِۖ
तरफ़ कुफ़्फ़ार के
لَا
ना वो
هُنَّ
ना वो
حِلٌّ
हलाल हैं
لَّهُمْ
उनके लिए
وَلَا
और ना
هُمْ
वो
يَحِلُّونَ
वो हलाल हो सकते हैं
لَهُنَّۖ
उनके लिए
وَءَاتُوهُم
और दो उन्हें
مَّآ
जो
أَنفَقُوا۟ۚ
उन्होंने ख़र्च किया
وَلَا
और नहीं
جُنَاحَ
कोई गुनाह
عَلَيْكُمْ
तुम पर
أَن
कि
تَنكِحُوهُنَّ
तुम निकाह करो उनसे
إِذَآ
जब
ءَاتَيْتُمُوهُنَّ
दे चुको तुम उन्हें
أُجُورَهُنَّۚ
मेहर उनके
وَلَا
और ना
تُمْسِكُوا۟
तुम रोक कर रखो
بِعِصَمِ
इस्मतें
ٱلْكَوَافِرِ
काफ़िर औरतों की
وَسْـَٔلُوا۟
और तुम माँग लो
مَآ
जो
أَنفَقْتُمْ
ख़र्च किया तुमने
وَلْيَسْـَٔلُوا۟
और चाहिए कि वो माँग लें
مَآ
जो
أَنفَقُوا۟ۚ
उन्होंने ख़र्च किया
ذَٰلِكُمْ
ये
حُكْمُ
फ़ैसला है
ٱللَّهِۖ
अल्लाह का
يَحْكُمُ
वो फ़ैसला करता है
بَيْنَكُمْۚ
दर्मियान तुम्हारे
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
عَلِيمٌ
ख़ूब इल्म वाला है
حَكِيمٌ
ख़ूब हिकमत वाला है

Ya ayyuha allatheena amanoo itha jaakumu almuminatu muhajiratin faimtahinoohunna Allahu a'lamu bieemanihinna fain 'alimtumoohunna muminatin fala tarji'oohunna ila alkuffari la hunna hillun lahum wala hum yahilloona lahunna waatoohum ma anfaqoo wala junaha 'alaykum an tankihoohunna itha ataytumoohunna ojoorahunna wala tumsikoo bi'isami alkawafiri waisaloo ma anfaqtum walyasaloo ma anfaqoo thalikum hukmu Allahi yahkumu baynakum waAllahu 'aleemun hakeemun

ऐ ईमान लानेवालो! जब तुम्हारे पास ईमान की दावेदार स्त्रियाँ हिजरत करके आएँ तो तुम उन्हें जाँच लिया करो। यूँ तो अल्लाह उनके ईमान से भली-भाँति परिचित है। फिर यदि वे तुम्हें ईमानवाली मालूम हो, तो उन्हें इनकार करनेवालों (अधर्मियों) की ओर न लौटाओ। न तो वे स्त्रियाँ उनके लिए वैद्य है और न वे उन स्त्रियों के लिए वैद्य है। और जो कुछ उन्होंने ख़र्च किया हो तुम उन्हें दे दो और इसमें तुम्हारे लिए कोई गुनाह नहीं कि तुम उनसे विवाह कर लो, जबकि तुम उन्हें महर अदा कर दो। और तुम स्वयं भी इनकार करनेवाली स्त्रियों के सतीत्व को अपने अधिकार में न रखो। और जो कुछ तुमने ख़र्च किया हो माँग लो। और उन्हें भी चाहिए कि जो कुछ उन्होंने ख़र्च किया हो माँग ले। यह अल्लाह का आदेश है। वह तुम्हारे बीच फ़ैसला करता है। अल्लाह सर्वज्ञ, तत्वदर्शी है

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-मुमताहिना
القرآن الكريم:الممتحنة
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Al-Mumtahanah
सूरा:60
कुल आयत:13
कुल शब्द:348
कुल वर्ण:1510
रुकु:2
वर्गीकरण:मदीनन सूरा
Revelation Order:91
से शुरू आयत:5150