Skip to main content

अल-मुमताहिना आयत ५ | Al-Mumtahanah 60:5

Our Lord
رَبَّنَا
ऐ हमारे रब
(do) not
لَا
ना तू बना हमें
make us
تَجْعَلْنَا
ना तू बना हमें
a trial
فِتْنَةً
फ़ितना / आज़माइश
for those who
لِّلَّذِينَ
उनके लिए जिन्होंने
disbelieve
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
and forgive
وَٱغْفِرْ
और बख़्शदे
us
لَنَا
हमें
our Lord
رَبَّنَآۖ
ऐ हमारे रब
Indeed You
إِنَّكَ
बेशक तू
[You]
أَنتَ
तू ही है
(are) the All-Mighty
ٱلْعَزِيزُ
बहुत ज़बरदस्त
the All-Wise"
ٱلْحَكِيمُ
ख़ूब हिकमत वाला

Rabbana la taj'alna fitnatan lillatheena kafaroo waighfir lana rabbana innaka anta al'azeezu alhakeemu

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

'ऐ हमारे रब! हमें इनकार करनेवालों के लिए फ़ितना न बना और ऐ हमारे रब! हमें क्षमा कर दे। निश्चय ही तू प्रभुत्वशाली, तत्वदर्शी है।'

English Sahih:

Our Lord, make us not [objects of] torment for the disbelievers and forgive us, our Lord. Indeed, it is You who is the Exalted in Might, the Wise."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और तेरी तरफ हमें लौट कर जाना है ऐ हमारे पालने वाले तू हम लोगों को काफ़िरों की आज़माइश (का ज़रिया) न क़रार दे और परवरदिगार तू हमें बख्श दे बेशक तू ग़ालिब (और) हिकमत वाला है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे हमारे पालनहार! हमें न बना परीक्षा[1] (का साधन) काफ़िरों के लिए और हमें क्षमा कर दे, हे हमारे पालनहार! वास्तव में, तू ही प्रभुत्वशाली, गुणी है।