Skip to main content

अल-मुमताहिना आयत ६ | Al-Mumtahanah 60:6

Certainly
لَقَدْ
अलबत्ता तहक़ीक़
(there) is
كَانَ
है
for you
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
in them
فِيهِمْ
उनमें
an example
أُسْوَةٌ
नमूना
good
حَسَنَةٌ
अच्छा
for (he) who
لِّمَن
उसके लिए जो
is
كَانَ
हो वो
hopeful
يَرْجُوا۟
वो उम्मीद रखता
(in) Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह (से मुलाक़ात ) की
and the Day
وَٱلْيَوْمَ
और आख़िरी दिन की
the Last
ٱلْءَاخِرَۚ
और आख़िरी दिन की
And whoever
وَمَن
और जो कोई
turns away
يَتَوَلَّ
मुँह मोड़ जाए
then indeed
فَإِنَّ
तो बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
He
هُوَ
वो ही है
(is) Free of need
ٱلْغَنِىُّ
बहुत बेनियाज़
the Praiseworthy
ٱلْحَمِيدُ
ख़ूब तारीफ़ वाला

Laqad kana lakum feehim oswatun hasanatun liman kana yarjoo Allaha waalyawma alakhira waman yatawalla fainna Allaha huwa alghanniyyu alhameedu

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

निश्चय ही तुम्हारे लिए उनमें अच्छा आदर्श है और हर उस व्यक्ति के लिए जो अल्लाह और अंतिम दिन की आशा रखता हो। और जो कोई मुँह फेरे तो अल्लाह तो निस्पृह, अपने आप में स्वयं प्रशंसित है

English Sahih:

There has certainly been for you in them an excellent pattern for anyone whose hope is in Allah and the Last Day. And whoever turns away – then indeed, Allah is the Free of need, the Praiseworthy.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(मुसलमानों) उन लोगों के (अफ़आल) का तुम्हारे वास्ते जो ख़ुदा और रोज़े आख़ेरत की उम्मीद रखता हो अच्छा नमूना है और जो (इससे) मुँह मोड़े तो ख़ुदा भी यक़ीनन बेपरवा (और) सज़ावारे हम्द है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

निःसंदेह, तुम्हारे लिए उनमें एक अच्छा आदर्श है, उसके लिए, जो आशा रखता हो अल्लाह तथा अन्तिम दिवस (प्रलय) की और जो विमुख हो, तो निश्चय अल्लाह निस्पृह प्रशंसित है।