Skip to main content

अल-मुल्क आयत २ | Al-Mulk 67:2

The One Who
ٱلَّذِى
वो जिसने
created
خَلَقَ
पैदा किया
death
ٱلْمَوْتَ
मौत
and life
وَٱلْحَيَوٰةَ
और ज़िन्दगी को
that He may test you
لِيَبْلُوَكُمْ
ताकि वो आज़माए तुम्हें
which of you
أَيُّكُمْ
कौन तुम में से
(is) best
أَحْسَنُ
ज़्यादा अच्छा है
(in) deed
عَمَلًاۚ
अमल में
And He
وَهُوَ
और वो
(is) the All-Mighty
ٱلْعَزِيزُ
बहुत ज़बरदस्त है
the Oft-Forgiving
ٱلْغَفُورُ
बहुत बख़्शने वाला है

Allathee khalaqa almawta waalhayata liyabluwakum ayyukum ahsanu 'amalan wahuwa al'azeezu alghafooru

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जिसने पैदा किया मृत्यु और जीवन को, ताकि तुम्हारी परीक्षा करे कि तुममें कर्म की दृष्टि से कौन सबसे अच्छा है। वह प्रभुत्वशाली, बड़ा क्षमाशील है। -

English Sahih:

[He] who created death and life to test you [as to] which of you is best in deed – and He is the Exalted in Might, the Forgiving –

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जिसने मौत और ज़िन्दगी को पैदा किया ताकि तुम्हें आज़माए कि तुममें से काम में सबसे अच्छा कौन है और वह ग़ालिब (और) बड़ा बख्शने वाला है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जिसने उत्पन्न किया है मृत्यु तथा जीवन को, ताकि तुम्हारी परीक्षा ले कि तुममें किसका कर्म अधिक अच्छा है? तथा वह प्रभुत्वशाली, अति क्षमावान् है।[1]