Skip to main content

अल-जिन्न आयत २३ | Al-Jinn 72:23

But
إِلَّا
मगर
(the) notification
بَلَٰغًا
पहुँचा देना है
from
مِّنَ
अल्लाह की तरफ़ से (हुक्म)
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की तरफ़ से (हुक्म)
and His Messages"
وَرِسَٰلَٰتِهِۦۚ
और उसके पैग़ामात
And whoever
وَمَن
और जो कोई
disobeys
يَعْصِ
नाफ़रमानी करेगा
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह की
and His Messenger
وَرَسُولَهُۥ
और उसके रसूल की
then indeed
فَإِنَّ
तो बेशक
for him
لَهُۥ
उसके लिए
(is the) Fire
نَارَ
आग है
(of) Hell
جَهَنَّمَ
जहन्नम की
(they will) abide
خَٰلِدِينَ
हमेशा रहने वाले हैं
therein
فِيهَآ
उसमें
forever
أَبَدًا
हमेशा-हमेशा

Illa balaghan mina Allahi warisalatihi waman ya'si Allaha warasoolahu fainna lahu nara jahannama khalideena feeha abadan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

'सिवाय अल्लाह की ओर से पहुँचने और उसके संदेश देने के। और जो कोई अल्लाह और उसके रसूल की अवज्ञा करेगा तो उसके लिए जहन्नम की आग है, जिसमें ऐसे लोग सदैव रहेंगे।'

English Sahih:

But [I have for you] only notification from Allah, and His messages." And whoever disobeys Allah and His Messenger – then indeed, for him is the fire of Hell; they will abide therein forever.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ख़ुदा की तरफ से (एहकाम के) पहुँचा देने और उसके पैग़ामों के सिवा (कुछ नहीं कर सकता) और जिसने ख़ुदा और उसके रसूल की नाफरमानी की तो उसके लिए यक़ीनन जहन्नुम की आग है जिसमें वह हमेशा और अबादुल आबाद तक रहेगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

परन्तु, पहुँचा सकता हूँ अल्लाह का आदेश तथा उसका उपदेश और जो अवज्ञा करेगा अल्लाह तथा उसके रसूल की, तो वास्तव में उसी के लिए नरक की अग्नि है, जिसमें वह नित्य सदावासी होगा।