Skip to main content

अल-बुरूज आयत ८ | Al-Buruj 85:8

And not
وَمَا
और नहीं
they resented
نَقَمُوا۟
उन्होंने इन्तिक़ाम लिया
[of] them
مِنْهُمْ
उनसे
except
إِلَّآ
मगर
that
أَن
ये कि
they believed
يُؤْمِنُوا۟
वो ईमान लाए
in Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
the All-Mighty
ٱلْعَزِيزِ
जो बहुत ज़बरदस्त है
the Praiseworthy
ٱلْحَمِيدِ
ख़ूब तारीफ़ वाला है

Wama naqamoo minhum illa an yuminoo biAllahi al'azeezi alhameedi

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उन्होंने उन (ईमानवालों) से केवल इस कारण बदला लिया और शत्रुता की कि वे उस अल्लाह पर ईमान रखते थे जो अत्यन्त प्रभुत्वशाली, प्रशंसनीय है,

English Sahih:

And they resented them not except because they believed in Allah, the Exalted in Might, the Praiseworthy,

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और उनको मोमिनीन की यही बात बुरी मालूम हुई कि वह लोग ख़ुदा पर ईमान लाए थे जो ज़बरदस्त और सज़ावार हम्द है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और उनका दोष केवल यही था कि वे प्रभावी प्रशंसा किये अल्लाह के प्रति विश्वास किये हुए थे।