Skip to main content

अत-तौबा आयत ८३ | At-Taubah 9:83

Then if
فَإِن
फिर अगर
Allah returns you
رَّجَعَكَ
वापस लौटा लाए आपको
Allah returns you
ٱللَّهُ
अल्लाह
to
إِلَىٰ
तरफ़ एक गिरोह के
a group
طَآئِفَةٍ
तरफ़ एक गिरोह के
of them
مِّنْهُمْ
अमन में से
and they ask you permission
فَٱسْتَـْٔذَنُوكَ
फिर वो इजाज़त तलब करें आपसे
to go out
لِلْخُرُوجِ
निकलने के लिए
then say
فَقُل
पस कह दीजिए
"Never
لَّن
हरगिज़ ना
will you come out
تَخْرُجُوا۟
तुम निकलोगे
with me
مَعِىَ
साथ मेरे
ever
أَبَدًا
कभी भी
and never
وَلَن
और हरगिज़ ना
will you fight
تُقَٰتِلُوا۟
तुम जंग करोगे
with me
مَعِىَ
साथ मेरे
any enemy
عَدُوًّاۖ
दुश्मन से
Indeed, you
إِنَّكُمْ
बेशक तुम
were satisfied
رَضِيتُم
राज़ी हो गए तुम
with sitting
بِٱلْقُعُودِ
बैठने पर
(the) first
أَوَّلَ
पहली बार
time
مَرَّةٍ
पहली बार
so sit
فَٱقْعُدُوا۟
पस बैठे रहो
with
مَعَ
साथ पीछे रहने वालों के
those who stay behind"
ٱلْخَٰلِفِينَ
साथ पीछे रहने वालों के

Fain raja'aka Allahu ila taifatin minhum faistathanooka lilkhurooji faqul lan takhrujoo ma'iya abadan walan tuqatiloo ma'iya 'aduwwan innakum radeetum bialqu'oodi awwala marratin faoq'udoo ma'a alkhalifeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अव यदि अल्लाह तुम्हें उनके किसी गिरोह की ओर रुजू कर दे और भविष्य में वे तुमसे साथ निकलने की अनुमति चाहें तो कह देना, 'तुम मेरे साथ कभी भी नहीं निकल सकते और न मेरे साथ होकर किसी शत्रु से लड़ सकते हो। तुम पहली बार बैठ रहने पर ही राज़ी हुए, तो अब पीछे रहनेवालों के साथ बैठे रहो।'

English Sahih:

If Allah should return you to a faction of them [after the expedition] and then they ask your permission to go out [to battle], say, "You will not go out with me, ever, and you will never fight with me an enemy. Indeed, you were satisfied with sitting [at home] the first time, so sit [now] with those who stay behind."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो (ऐ रसूल) अगर ख़ुदा तुम इन मुनाफेक़ीन के किसी गिरोह की तरफ (जिहाद से सहीसालिम) वापस लाए फिर तुमसे (जिहाद के वास्ते) निकलने की इजाज़त माँगें तो तुम साफ़ कह दो कि तुम मेरे साथ (जिहाद के वास्ते) हरगिज़ न निकलने पाओगे और न हरगिज़ दुश्मन से मेरे साथ लड़ने पाओगे जब तुमने पहली मरतबा (घर में) बैठे रहना पसन्द किया तो (अब भी) पीछे रह जाने वालों के साथ (घर में) बैठे रहो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो (हे नबी!) यदि आपको अल्लाह इन (द्विधावादियों) के किसी गिरोह के पास (तबूक से) वापस लाये और वे आपसे (किसी दूसरे युध्द में) निकलने की अनुमति माँगें, तो आप कह दें कि तुम मेरे साथ कभी न निकलोगे और न मेरे साथ किसी शत्रु से युध्द कर सकोगे। तुम प्रथम बार बैठे रहने पर प्रसन्न थे, तो अबभी पीछे रहने वालों के साथ बैठे रहो।