Skip to main content

अल बकराह आयत १९६ | Al-Baqrah 2:196

And complete
وَأَتِمُّوا۟
और पूरा करो
the Hajj
ٱلْحَجَّ
हज
and the Umrah
وَٱلْعُمْرَةَ
और उमरा को
for Allah
لِلَّهِۚ
अल्लाह के लिए
And if
فَإِنْ
फिर अगर
you are held back
أُحْصِرْتُمْ
घेर लिए जाओ तुम
then (offer) whatever
فَمَا
तो जो
(can be) obtained with ease
ٱسْتَيْسَرَ
मयस्सर आए
of
مِنَ
क़ुर्बानी से (वो कर लो)
the sacrificial animal
ٱلْهَدْىِۖ
क़ुर्बानी से (वो कर लो)
And (do) not
وَلَا
और ना
shave
تَحْلِقُوا۟
तुम मुँडवाओ
your heads
رُءُوسَكُمْ
अपने सरों को
until
حَتَّىٰ
यहाँ तक कि
reaches
يَبْلُغَ
पहुँच जाए
the sacrificial animal
ٱلْهَدْىُ
क़ुर्बानी
(to) its destination
مَحِلَّهُۥۚ
अपनी हलाल गाह को
Then whoever
فَمَن
तो जो कोई
is
كَانَ
हो
among you
مِنكُم
तुममें से
ill
مَّرِيضًا
मरीज़
or
أَوْ
या
he (has)
بِهِۦٓ
उसे
an ailment
أَذًى
तकलीफ़ हो
of
مِّن
उसके सर में
his head
رَّأْسِهِۦ
उसके सर में
then a ransom
فَفِدْيَةٌ
तो फ़िदया देना है
of
مِّن
रोज़ों से
fasting
صِيَامٍ
रोज़ों से
or
أَوْ
या
charity
صَدَقَةٍ
सदक़े से
or
أَوْ
या
sacrifice
نُسُكٍۚ
क़ुर्बानी से
Then when
فَإِذَآ
पस जब
you are secure
أَمِنتُمْ
अमन में आ जाओ तुम
then whoever
فَمَن
तो जो कोई
took advantage
تَمَتَّعَ
फ़ायदा उठाए
of the Umrah
بِٱلْعُمْرَةِ
साथ उमरा के
followed
إِلَى
हज तक
(by) the Hajj
ٱلْحَجِّ
हज तक
then (offer) whatever
فَمَا
तो जो भी
(can be) obtained with ease
ٱسْتَيْسَرَ
मयस्सर हो
of
مِنَ
क़ुर्बानी से (वो कर लो)
the sacrificial animal
ٱلْهَدْىِۚ
क़ुर्बानी से (वो कर लो)
But whoever
فَمَن
फिर जो कोई
(can) not
لَّمْ
ना
find
يَجِدْ
पाए
then a fast
فَصِيَامُ
तो रोज़े रखना है
(of) three
ثَلَٰثَةِ
तीन
days
أَيَّامٍ
दिनों के
during
فِى
हज में
the Hajj
ٱلْحَجِّ
हज में
and seven (days)
وَسَبْعَةٍ
और सात
when
إِذَا
जब
you return
رَجَعْتُمْۗ
लौटो तुम
This
تِلْكَ
ये
(is) ten (days)
عَشَرَةٌ
दस हैं
in all
كَامِلَةٌۗ
पूरे
That
ذَٰلِكَ
ये
(is) for (the one) whose
لِمَن
उसके लिए जो
not
لَّمْ
ना
is
يَكُنْ
हों
his family
أَهْلُهُۥ
उसके अहले ख़ाना
present
حَاضِرِى
रहने वाले (पास)
(near) Al-Masjid
ٱلْمَسْجِدِ
मस्जिदे
Al-Haraam
ٱلْحَرَامِۚ
हराम के
And fear
وَٱتَّقُوا۟
और डरो
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह से
and know
وَٱعْلَمُوٓا۟
और जान लो
that
أَنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) severe
شَدِيدُ
सख़्त
(in) retribution
ٱلْعِقَابِ
सज़ा वाला है

Waatimmoo alhajja waal'umrata lillahi fain ohsirtum fama istaysara mina alhadyi wala tahliqoo ruoosakum hatta yablugha alhadyu mahillahu faman kana minkum mareedan aw bihi athan min rasihi fafidyatun min siyamin aw sadaqatin aw nusukin faitha amintum faman tamatta'a bial'umrati ila alhajji fama istaysara mina alhadyi faman lam yajid fasiyamu thalathati ayyamin fee alhajji wasab'atin itha raja'tum tilka 'asharatun kamilatun thalika liman lam yakun ahluhu hadiree almasjidi alharami waittaqoo Allaha wai'lamoo anna Allaha shadeedu al'iqabi

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और हज और उमरा जो कि अल्लाह के लिए है, पूरे करो। फिर यदि तुम घिर जाओ, तो जो क़ुरबानी उपलब्ध हो पेश कर दो। और अपने सिर न मूड़ो जब तक कि क़ुरबानी अपने ठिकाने न पहुँच जाए, किन्तु जो व्यक्ति तुममें बीमार हो या उसके सिर में कोई तकलीफ़ हो, तो रोज़े या सदक़ा या क़रबानी के रूप में फ़िद्याी देना होगा। फिर जब तुम पर से ख़तरा टल जाए, तो जो व्यक्ति हज तक उमरा से लाभान्वित हो, जो जो क़ुरबानी उपलब्ध हो पेश करे, और जिसको उपलब्ध न हो तो हज के दिनों में तीन दिन के रोज़े रखे और सात दिन के रोज़े जब तुम वापस हो, ये पूरे दस हुए। यह उसके लिए है जिसके बाल-बच्चे मस्जिदे हराम के निकट न रहते हों। अल्लाह का डर रखो और भली-भाँति जान लो कि अल्लाह कठोर दंड देनेवाला है

English Sahih:

And complete the Hajj and Umrah for Allah. But if you are prevented, then [offer] what can be obtained with ease of sacrificial animals. And do not shave your heads until the sacrificial animal has reached its place of slaughter. And whoever among you is ill or has an ailment of the head [making shaving necessary must offer] a ransom of fasting [three days] or charity or sacrifice. And when you are secure, then whoever performs Umrah [during the Hajj months] followed by Hajj [offers] what can be obtained with ease of sacrificial animals. And whoever cannot find [or afford such an animal] – then a fast of three days during Hajj and of seven when you have returned [home]. Those are ten complete [days]. This is for those whose family is not in the area of al-Masjid al-Haram. And fear Allah and know that Allah is severe in penalty.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और सिर्फ ख़ुदा ही के वास्ते हज और उमरा को पूरा करो अगर तुम बीमारी वगैरह की वजह से मजबूर हो जाओ तो फिर जैसी क़ुरबानी मयस्सर आये (कर दो) और जब तक कुरबानी अपनी जगह पर न पहुँच जाये अपने सर न मुँडवाओ फिर जब तुम में से कोई बीमार हो या उसके सर में कोई तकलीफ हो तो (सर मुँडवाने का बदला) रोजे या खैरात या कुरबानी है पस जब मुतमइन रहों तो जो शख्स हज तमत्तो का उमरा करे तो उसको जो कुरबानी मयस्सर आये करनी होगी और जिस से कुरबानी ना मुमकिन हो तो तीन रोजे ज़माना ए हज में (रखने होंगे) और सात रोजे ज़ब तुम वापस आओ ये पूरा दहाई है ये हुक्म उस शख्स के वास्ते है जिस के लड़के बाले मस्ज़िदुल हराम (मक्का) के बाशिन्दे न हो और ख़ुदा से डरो और समझ लो कि ख़ुदा बड़ा सख्त अज़ाब वाला है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा ह़ज और उमरह अल्लाह के लिए पूरा करो और यदि रोक दिये जाओ[1], तो जो क़ुर्बानी सुलभ हो (कर दो) और अपने सिर न मुँडाओ, जब तक कि क़ुर्बानी अपने स्थान तक न पहुँच[2] जाये, यदि तुममें से कोई व्यक्ति रोगी हो या उसके सिर में कोई पीड़ा हो (और सिर मुँडा ले), तो उसके बदले में रोज़ा रखना या दान[3] देना या क़ुर्बानी देना है और जब तुम निर्भय (शान्त) रहो, तो जो उमरे से ह़ज तक लाभान्वित[4] हो, वह जो क़ुर्बानी सुलभ हो, उसे करे और जिसे उपलब्ध न हो, वह तीन रोज़े ह़ज के दिनों में रखे और सात, जब रखे, जब तुम (घर) वापस आओ। ये पूरे दस हुए। ये उसके लिए है, जो मस्जिदे ह़राम का निवासी न हो और अल्लाह से डरो तथा जान लो कि अल्लाह की यातना बहुत कड़ी है।