Skip to main content

अल बकराह आयत २२० | Al-Baqrah 2:220

Concerning
فِى
दुनिया में
the world
ٱلدُّنْيَا
दुनिया में
and the Hereafter
وَٱلْءَاخِرَةِۗ
और आख़िरत में
They ask you
وَيَسْـَٔلُونَكَ
और वो सवाल करते हैं आपसे
about
عَنِ
यतीमों के बारे में
the orphans
ٱلْيَتَٰمَىٰۖ
यतीमों के बारे में
Say
قُلْ
कह दीजिए
"Setting right (their affairs)
إِصْلَاحٌ
इस्लाह करना
for them
لَّهُمْ
उनकी
(is) best
خَيْرٌۖ
बेहतर है
And if
وَإِن
और अगर
you associate with them
تُخَالِطُوهُمْ
तुम मिला लो उन्हें
then they (are) your brothers
فَإِخْوَٰنُكُمْۚ
तो वो भाई हैं तुम्हारे
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
knows
يَعْلَمُ
जानता है
the corrupter
ٱلْمُفْسِدَ
फ़साद करने वाले को
from
مِنَ
इस्लाह करने वाले से
the amender
ٱلْمُصْلِحِۚ
इस्लाह करने वाले से
And if
وَلَوْ
और अगर
(had) willed
شَآءَ
चाहता
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
surely He (could have) put you in difficulties
لَأَعْنَتَكُمْۚ
अलबत्ता वो मुश्किल में डाल देता तुम्हें
Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) All-Mighty
عَزِيزٌ
बहुत ज़बरदस्त है
All-Wise"
حَكِيمٌ
ख़ूब हिकमत वाला है

Fee alddunya waalakhirati wayasaloonaka 'ani alyatama qul islahun lahum khayrun wain tukhalitoohum faikhwanukum waAllahu ya'lamu almufsida mina almuslihi walaw shaa Allahu laa'natakum inna Allaha 'azeezun hakeemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और वे तुमसे अनाथों के विषय में पूछते है। कहो, 'उनके सुधार की जो रीति अपनाई जाए अच्छी है। और यदि तुम उन्हें अपने साथ सम्मिलित कर लो तो वे तुम्हारे भाई-बन्धु ही हैं। और अल्लाह बिगाड़ पैदा करनेवाले को बचाव पैदा करनेवाले से अलग पहचानता है। और यदि अल्लाह चाहता तो तुमको ज़हमत (कठिनाई) में डाल देता। निस्संदेह अल्लाह प्रभुत्वशाली, तत्वदर्शी है।'

English Sahih:

To this world and the Hereafter. And they ask you about orphans. Say, "Improvement for them is best. And if you mix your affairs with theirs – they are your brothers. And Allah knows the corrupter from the amender. And if Allah had willed, He could have put you in difficulty. Indeed, Allah is Exalted in Might and Wise."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ताकि तुम दुनिया और आख़िरत (के मामलात) में ग़ौर करो और तुम से लोग यतीमों के बारे में पूछते हैं तुम (उन से) कह दो कि उनकी (इसलाह दुरुस्ती) बेहतर है और अगर तुम उन से मिलजुल कर रहो तो (कुछ हर्ज) नहीं आख़िर वह तुम्हारें भाई ही तो हैं और ख़ुदा फ़सादी को ख़ैर ख्वाह से (अलग ख़ूब) जानता है और अगर ख़ुदा चाहता तो तुम को मुसीबत में डाल देता बेशक ख़ुदा ज़बरदस्त हिक़मत वाला है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

दुनिया और आख़रित दोनो में और वे आपसे अनाथों के विषय में प्रश्ण करते हैं। उनसे कह दीजिए कि जिस बात में उनका सुधार हो वही सबसे अच्छी है। यदि तुम उनसे मिलकर रहो, तो वे तुम्हारे भाई ही हैं और अल्लाह जानता है कि कौन सुधारने और कौन बिगाड़ने वाला है और यदि अल्लाह चाहता, तो तुमपर सख्ती[1] कर देता। वास्तव में, अल्लाह प्रभुत्वशाली, तत्वज्ञ है।