Skip to main content

अल बकराह आयत २२१ | Al-Baqrah 2:221

And (do) not
وَلَا
और ना
[you] marry
تَنكِحُوا۟
तुम निकाह करो
[the] polytheistic women
ٱلْمُشْرِكَٰتِ
मुशरिका औरतों से
until
حَتَّىٰ
यहाँ तक कि
they believe
يُؤْمِنَّۚ
वो ईमान ले आऐं
And a bondwoman
وَلَأَمَةٌ
और अलबत्ता लौंडी
(who is) believing
مُّؤْمِنَةٌ
मोमिना
(is) better
خَيْرٌ
बेहतर है
than
مِّن
मुशरिका औरत से
a polytheistic woman
مُّشْرِكَةٍ
मुशरिका औरत से
[and] even if
وَلَوْ
और अगरचे
she pleases you
أَعْجَبَتْكُمْۗ
वो अच्छी लगे तुम्हें
And (do) not
وَلَا
और ना
give in marriage (your women)
تُنكِحُوا۟
तुम निकाह करके दो
(to) [the] polytheistic men
ٱلْمُشْرِكِينَ
मुशरिक मर्दों को
until
حَتَّىٰ
यहाँ तक कि
they believe
يُؤْمِنُوا۟ۚ
वो ईमान ले आऐं
and a bondman
وَلَعَبْدٌ
और अलबत्ता ग़ुलाम
(who is) believing
مُّؤْمِنٌ
मोमिन
(is) better
خَيْرٌ
बेहतर है
than
مِّن
मुशरिक मर्द से
a polytheistic man
مُّشْرِكٍ
मुशरिक मर्द से
[and] even if
وَلَوْ
और अगरचे
he pleases you
أَعْجَبَكُمْۗ
वो अच्छा लगे तुम्हें
[Those]
أُو۟لَٰٓئِكَ
यही लोग हैं
they invite
يَدْعُونَ
जो बुलाते हैं
to
إِلَى
तरफ़ आग के
the Fire
ٱلنَّارِۖ
तरफ़ आग के
and Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
invites
يَدْعُوٓا۟
बुलाता है
to
إِلَى
तरफ़ जन्नत के
Paradise
ٱلْجَنَّةِ
तरफ़ जन्नत के
and [the] forgiveness
وَٱلْمَغْفِرَةِ
और बख़्शिश के
by His permission
بِإِذْنِهِۦۖ
अपने इज़्न से
And He makes clear
وَيُبَيِّنُ
और वो वाज़ेह करता है
His Verses
ءَايَٰتِهِۦ
आयात अपनी
for the people
لِلنَّاسِ
लोगों के लिए
so that they may
لَعَلَّهُمْ
ताकि वो
take heed
يَتَذَكَّرُونَ
वो नसीहत पकड़ें

Wala tankihoo almushrikati hatta yuminna walaamatun muminatun khayrun min mushrikatin walaw a'jabatkum wala tunkihoo almushrikeena hatta yuminoo wala'abdun muminun khayrun min mushrikin walaw a'jabakum olaika yad'oona ila alnnari waAllahu yad'oo ila aljannati waalmaghfirati biithnihi wayubayyinu ayatihi lilnnasi la'allahum yatathakkaroona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और मुशरिक (बहुदेववादी) स्त्रियों से विवाह न करो जब तक कि वे ईमान न लाएँ। एक ईमानदारी बांदी (दासी), मुशरिक स्त्री से कहीं उत्तम है; चाहे वह तुम्हें कितनी ही अच्छी क्यों न लगे। और न (ईमानवाली स्त्रियाँ) मुशरिक पुरुषों से विवाह करो, जब तक कि वे ईमान न लाएँ। एक ईमानवाला गुलाम आज़ाद मुशरिक से कहीं उत्तम है, चाहे वह तुम्हें कितना ही अच्छा क्यों न लगे। ऐसे लोग आग (जहन्नम) की ओर बुलाते है और अल्लाह अपनी अनुज्ञा से जन्नत और क्षमा की ओर बुलाता है। और वह अपनी आयतें लोगों के सामने खोल-खोलकर बयान करता है, ताकि वे चेतें

English Sahih:

And do not marry polytheistic women until they believe. And a believing slave woman is better than a polytheist, even though she might please you. And do not marry polytheistic men [to your women] until they believe. And a believing slave is better than a polytheist, even though he might please you. Those invite [you] to the Fire, but Allah invites to Paradise and to forgiveness, by His permission. And He makes clear His verses [i.e., ordinances] to the people that perhaps they may remember.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (मुसलमानों) तुम मुशरिक औरतों से जब तक ईमान न लाएँ निकाह न करो क्योंकि मुशरिका औरत तुम्हें अपने हुस्नो जमाल में कैसी ही अच्छी क्यों न मालूम हो मगर फिर भी ईमानदार औरत उस से ज़रुर अच्छी है और मुशरेकीन जब तक ईमान न लाएँ अपनी औरतें उन के निकाह में न दो और मुशरिक तुम्हे कैसा ही अच्छा क्यो न मालूम हो मगर फिर भी ईमानदार औरत उस से ज़रुर अच्छी है और मुशरेकीन जब तक ईमान न लाएँ अपनी औरतें उन के निकाह में न दो और मुशरिक तुम्हें क्या ही अच्छा क्यों न मालूम हो मगर फिर भी बन्दा मोमिन उनसे ज़रुर अच्छा है ये (मुशरिक मर्द या औरत) लोगों को दोज़ख़ की तरफ बुलाते हैं और ख़ुदा अपनी इनायत से बेहिश्त और बख़्शिस की तरफ बुलाता है और अपने एहकाम लोगों से साफ साफ बयान करता है ताकि ये लोग चेते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा मुश्रिक[1] स्त्रियों से तुम विवाह न करो, जब तक वे ईमान न लायें और ईमान वाली दासी मुश्रिक स्त्री से उत्तम है, यद्यपि वह तुम्हारे मन को भा रही हो और अपनी स्त्रियों का निकाह़ मुश्रिकों से न करो, जब तक वे ईमान न लायें और ईमान वाला दास मुश्रिक से उत्तम है, यद्यपि वह तुम्हें भा रहा हो। वे तुम्हें अग्नि की ओर बुलाते हैं तथा अल्लाह स्वर्ग और क्षमा की ओर बुला रहा है और (अल्लाह) सभी मानव के लिए अपनी आयतें (आदेश) उजागर कर रहा है, ताकि वह शिक्षा ग्रहन करें।