Skip to main content

अल बकराह आयत ९१ | Al-Baqrah 2:91

And when
وَإِذَا
और जब
it is said
قِيلَ
कहा जाता है
to them
لَهُمْ
उन्हें
"Believe
ءَامِنُوا۟
ईमान लाओ
in what
بِمَآ
उस पर जो
has revealed
أَنزَلَ
नाज़िल किया
Allah"
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
they say
قَالُوا۟
वो कहते हैं
"We believe
نُؤْمِنُ
हम ईमान लाऐंगे
in what
بِمَآ
उस पर जो
was revealed
أُنزِلَ
नाज़िल किया गया
to us"
عَلَيْنَا
हम पर
And they disbelieve
وَيَكْفُرُونَ
और वो कुफ़्र करते हैं
in what
بِمَا
साथ उसके जो
(is) besides it
وَرَآءَهُۥ
अलावा है इसके
while it
وَهُوَ
हालाँकि वो ही
(is) the truth
ٱلْحَقُّ
हक़ है
confirming
مُصَدِّقًا
तस्दीक़ करने वाला है
what
لِّمَا
उसकी जो
(is) with them
مَعَهُمْۗ
पास है उनके
Say
قُلْ
कह दीजिए
"Then why
فَلِمَ
तो क्यों
(did) you kill
تَقْتُلُونَ
तुम क़त्ल करते रहे
(the) Prophets
أَنۢبِيَآءَ
नबियों को
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के
from
مِن
इससे पहले
before
قَبْلُ
इससे पहले
if
إِن
अगर
you were
كُنتُم
हो तुम
believers?"
مُّؤْمِنِينَ
ईमान लाने वाले

Waitha qeela lahum aminoo bima anzala Allahu qaloo numinu bima onzila 'alayna wayakfuroona bima waraahu wahuwa alhaqqu musaddiqan lima ma'ahum qul falima taqtuloona anbiyaa Allahi min qablu in kuntum mumineena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जब उनसे कहा जाता है, 'अल्लाह ने जो कुछ उतारा है उस पर ईमान लाओ', तो कहते है, 'हम तो उसपर ईमान रखते है जो हम पर उतरा है,' और उसे मानने से इनकार करते हैं जो उसके पीछे है, जबकि वही सत्य है, उसकी पुष्टि करता है जो उसके पास है। कहो, 'अच्छा तो इससे पहले अल्लाह के पैग़म्बरों की हत्या क्यों करते रहे हो, यदि तुम ईमानवाले हो?'

English Sahih:

And when it is said to them, "Believe in what Allah has revealed," they say, "We believe [only] in what was revealed to us." And they disbelieve in what came after it, while it is the truth confirming that which is with them. Say, "Then why did you kill the prophets of Allah before, if you are [indeed] believers?"

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जब उनसे कहा गया कि (जो क़ुरान) खुदा ने नाज़िल किया है उस पर ईमान लाओ तो कहने लगे कि हम तो उसी किताब (तौरेत) पर ईमान लाए हैं जो हम पर नाज़िल की गई थी और उस किताब (कुरान) को जो उसके बाद आई है नहीं मानते हैं हालाँकि वह (क़ुरान) हक़ है और उस किताब (तौरेत) की जो उनके पास है तसदीक़ भी करती है मगर उस किताब कुरान का जो उसके बाद आई है इन्कार करते हैं (ऐ रसूल) उनसे ये तो पूछो कि तुम (तुम्हारे बुर्जुग़) अगर ईमानदार थे तो फिर क्यों खुदा के पैग़म्बरों का साबिक़ क़त्ल करते थे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और जब उनसे कहा जाता है कि अल्लाह ने जो उतारा[1] है, उसपर ईमन लाओ, तो कहते हैं: हम तो उसीपर ईमान रखते हैं, जो हमपर उतरा है और इसके सिवा जो कुछ है, उसका इन्कार करते हैं। जबकि वह सत्य है और उसका प्रमाण्कारी है, जो उनके पास है। कहो कि फिर इससे पूर्व अल्लाह के नबियों की हत्या क्यों करते थे, यदि तुम ईमान वाले थे तो?