Skip to main content

अल-फुरकान आयत ३४ | Al-Furqan 25:34

Those who
ٱلَّذِينَ
वो लोग जो
will be gathered
يُحْشَرُونَ
इकट्ठे किए जाऐंगे
on
عَلَىٰ
अपने चेहरों के बल
their faces
وُجُوهِهِمْ
अपने चेहरों के बल
to
إِلَىٰ
तरफ़ जहन्नम के
Hell
جَهَنَّمَ
तरफ़ जहन्नम के
those
أُو۟لَٰٓئِكَ
यही लोग
(are the) worst
شَرٌّ
बदतरीन हैं
(in) position
مَّكَانًا
मक़ाम के ऐतबार से
and most astray
وَأَضَلُّ
और ज़्यादा भटके हुए
(from the) way
سَبِيلًا
रास्ते के ऐतबार से

Allatheena yuhsharoona 'ala wujoohihim ila jahannama olaika sharrun makanan waadallu sabeelan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जो लोग औंधे मुँह जहन्नम की ओर ले जाए जाएँगे वही स्थान की दृष्टि से बहुत बुरे है, और मार्ग की दृष्टि से भी बहुत भटके हुए है

English Sahih:

The ones who are gathered on their faces to Hell – those are the worst in position and farthest astray in [their] way.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जो लोग (क़यामत के दिन) अपने अपने मोहसिनों के बल जहन्नुम में हकाए जाएगें वही लोग बदतर जगह में होगें और सब से ज्यादा राह रास्त से भटकने वाले

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जो अपने मुखों के बल, नरक की ओर एकत्र किये जायेंगे, उन्हीं का सबसे बुरा स्थान है तथा सबसे अधिक कुपथ हैं।