Skip to main content

आले इमरान आयत १२९ | Aal-e-Imran 3:129

And to Allah (belongs)
وَلِلَّهِ
और अल्लाह ही के लिए है
what
مَا
जो कुछ
(is) in
فِى
आसमानों में है
the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों में है
and what
وَمَا
और जो कुछ
(is) in
فِى
ज़मीन में है
the earth
ٱلْأَرْضِۚ
ज़मीन में है
He forgives
يَغْفِرُ
वो बख़्श देता है
[for] whom
لِمَن
जिसके लिए
He wills
يَشَآءُ
वो चाहता है
and punishes
وَيُعَذِّبُ
और वो अज़ाब देता है
whom
مَن
जिसे
He wills
يَشَآءُۚ
वो चाहता है
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) Oft-Forgiving
غَفُورٌ
बहुत बख़्शने वाला है
Most Merciful
رَّحِيمٌ
निहायत रहम करने वाला है

Walillahi ma fee alssamawati wama fee alardi yaghfiru liman yashao wayu'aththibu man yashao waAllahu ghafoorun raheemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

आकाशों और धरती में जो कुछ भी है, अल्लाह ही का है। वह जिसे चाहे क्षमा कर दे और जिसे चाहे यातना दे। और अल्लाह अत्यन्त क्षमाशील, दयावान है

English Sahih:

And to Allah belongs whatever is in the heavens and whatever is on the earth. He forgives whom He wills and punishes whom He wills. And Allah is Forgiving and Merciful.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जो कुछ आसमानों में है और जो कुछ ज़मीन में है सब ख़ुदा ही का है जिसको चाहे बख्शे और जिसको चाहे सज़ा करे और ख़ुदा बड़ा बख्शने वाला मेहरबार है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

अल्लाह ही का है, जो कुछ आकाशों तथा धरती में है, वह जिसे चाहे, क्षमा करे और जिसे चाहे, दण्ड दे तथा अल्लाह अति क्षमाशील, दयावान् है।