Skip to main content

आले इमरान आयत १८२ | Aal-e-Imran 3:182

That
ذَٰلِكَ
ये
(is) because
بِمَا
बवजह उसके जो
(of what) sent forth
قَدَّمَتْ
आगे भेजा
your hands
أَيْدِيكُمْ
तुम्हारे हाथों ने
and that
وَأَنَّ
और बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
is not
لَيْسَ
नहीं
unjust
بِظَلَّامٍ
ज़ुल्म करने वाला
to (His) slaves
لِّلْعَبِيدِ
बन्दों पर

Thalika bima qaddamat aydeekum waanna Allaha laysa bithallamin lil'abeedi

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यह उसका बदला है जो तुम्हारे हाथों ने आगे भेजा। अल्लाह अपने बन्दों पर तनिक भी ज़ुल्म नहीं करता

English Sahih:

That is for what your hands have put forth and because Allah is not ever unjust to [His] servants."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ये उन्हीं कामों का बदला है जिनको तुम्हारे हाथों ने (ज़ादे आख़ेरत बना कर) पहले से भेजा है वरना ख़ुदा तो कभी अपने बन्दों पर ज़ुल्म करने वाला नहीं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

ये तुम्हारे करतूतों का दुष्परिणाम है तथा वास्तव में, अल्लाह बंदों के लिए तनिक भी अत्याचारी नहीं है।