Skip to main content

अर-रूम आयत ५५ | Ar-Rum 30:55

And (the) Day
وَيَوْمَ
और जिस दिन
will (be) established
تَقُومُ
क़ायम होगी
the Hour
ٱلسَّاعَةُ
क़यामत
will swear
يُقْسِمُ
क़समें खाऐंगे
the criminals
ٱلْمُجْرِمُونَ
मुजरिम
not
مَا
नहीं
they remained
لَبِثُوا۟
वो ठहरे
but
غَيْرَ
सिवाए
an hour
سَاعَةٍۚ
एक घड़ी के
Thus
كَذَٰلِكَ
इसी तरह
they were
كَانُوا۟
थे वो
deluded
يُؤْفَكُونَ
वो फेरे जाते

Wayawma taqoomu alssa'atu yuqsimu almujrimoona ma labithoo ghayra sa'atin kathalika kanoo yufakoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जिस दिन वह घड़ी आ खड़ी होगी अपराधी क़सम खाएँगे कि वे घड़ी भर से अधिक नहीं ठहरें। इसी प्रकार वे उलटे फिरे चले जाते थे

English Sahih:

And the Day the Hour appears the criminals will swear they had remained but an hour. Thus they were deluded.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जिस दिन क़यामत बरपा होगी तो गुनाहगार लोग कसमें खाएँगें कि वह (दुनिया में) घड़ी भर से ज्यादा नहीं ठहरे यूँ ही लोग (दुनिया में भी) इफ़तेरा परदाज़ियाँ करते रहे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और जिस दिन व्याप्त होगी प्रलय, तो शपथ लेंगे अपराधी कि वे नहीं रहे क्षणभर[1] के सिवा और इसी प्रकार, वे बहकते रहे।