Skip to main content

अल-अह्जाब आयत ३८ | Al-Ahzab 33:38

Not
مَّا
नहीं
(there can) be
كَانَ
है
upon
عَلَى
नबी पर
the Prophet
ٱلنَّبِىِّ
नबी पर
any
مِنْ
कोई तंगी
discomfort
حَرَجٍ
कोई तंगी
in what
فِيمَا
उसमें जो
Allah has imposed
فَرَضَ
मुक़र्रर किया
Allah has imposed
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
on him
لَهُۥۖ
उसके लिए
(That is the) Way
سُنَّةَ
तरीक़ा है
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह का
concerning
فِى
उन लोगों में जो
those who
ٱلَّذِينَ
उन लोगों में जो
passed away
خَلَوْا۟
गुज़र चुके
before
مِن
इससे पहले
before
قَبْلُۚ
इससे पहले
And is
وَكَانَ
और है
(the) Command
أَمْرُ
हुक्म
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह का
a decree
قَدَرًا
एक अंदाज़ा
destined
مَّقْدُورًا
मुक़र्रर किया हुआ

Ma kana 'ala alnnabiyyi min harajin feema farada Allahu lahu sunnata Allahi fee allatheena khalaw min qablu wakana amru Allahi qadaran maqdooran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

नबी पर उस काम में कोई तंगी नहीं जो अल्लाह ने उसके लिए ठहराया हो। यही अल्लाह का दस्तूर उन लोगों के मामले में भी रहा है जो पहले गुज़र चुके है - और अल्लाह का काम तो जँचा-तुला होता है। -

English Sahih:

There is not to be upon the Prophet any discomfort concerning that which Allah has imposed upon him. [This is] the established way of Allah with those [prophets] who have passed on before. And ever is the command of Allah a destiny decreed.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जो हुक्म खुदा ने पैग़म्बर पर फर्ज क़र दिया (उसके करने) में उस पर कोई मुज़ाएका नहीं जो लोग (उनसे) पहले गुज़र चुके हैं उनके बारे में भी खुदा का (यही) दस्तूर (जारी) रहा है (कि निकाह में तंगी न की) और खुदा का हुक्म तो (ठीक अन्दाज़े से) मुक़र्रर हुआ होता है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

नहीं है नबी पर कोई तंगी उसमें जिसका आदेश दिया है अल्लाह ने उनके लिए।[1] अल्लाह का यही नियम रहा है उन नबियों में, जो हुए हैं आपसे पहले तथा अल्लाह का निश्चित किया आदेश पूरा होना ही है।