Skip to main content

फातिर आयत ४४ | Fatir 35:44

Have they not
أَوَلَمْ
क्या भला नहीं
traveled
يَسِيرُوا۟
वो चलते फिरते
in
فِى
ज़मीन में
the land
ٱلْأَرْضِ
ज़मीन में
and seen
فَيَنظُرُوا۟
फिर वो देखते
how
كَيْفَ
किस तरह
was
كَانَ
हुआ
(the) end
عَٰقِبَةُ
अंजाम
(of) those who
ٱلَّذِينَ
उनका जो
(were) before them?
مِن
उनसे पहले थे
(were) before them?
قَبْلِهِمْ
उनसे पहले थे
And they were
وَكَانُوٓا۟
और थे वो
stronger
أَشَدَّ
ज़्यादा सख़्त
than them
مِنْهُمْ
उनसे
(in) power
قُوَّةًۚ
क़ुव्वत में
But not
وَمَا
और नहीं
is
كَانَ
है
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
that can escape (from) Him
لِيُعْجِزَهُۥ
कि आजिज़ कर सके उसे
any
مِن
कोई चीज़
thing
شَىْءٍ
कोई चीज़
in
فِى
आसमानों में
the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों में
and not
وَلَا
और ना
in
فِى
ज़मीन में
the earth
ٱلْأَرْضِۚ
ज़मीन में
Indeed, He
إِنَّهُۥ
बेशक वो
is
كَانَ
है
All-Knower
عَلِيمًا
ख़ूब जानने वाला
All-Powerful
قَدِيرًا
बहुत क़ुदरत वाला

Awalam yaseeroo fee alardi fayanthuroo kayfa kana 'aqibatu allatheena min qablihim wakanoo ashadda minhum quwwatan wama kana Allahu liyu'jizahu min shayin fee alssamawati wala fee alardi innahu kana 'aleeman qadeeran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

क्या वे धरती में चले-फिरे नहीं कि देखते कि उन लोगों का कैसा परिणाम हुआ है जो उनसे पहले गुज़रे हैं? हालाँकि वे शक्ति में उनसे कही बढ़-चढ़कर थे। अल्लाह ऐसा नहीं कि आकाशों में कोई चीज़ उसे मात कर सके और न धरती ही में। निस्संदेह वह सर्वज्ञ, सामर्थ्यमान है

English Sahih:

Have they not traveled through the land and observed how was the end of those before them? And they were greater than them in power. But Allah is not to be caused failure [i.e., prevented] by anything in the heavens or on the earth. Indeed, He is ever Knowing and Competent.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो क्या उन लोगों ने रूए ज़मीन पर चल फिर कर नहीं देखा कि जो लोग उनके पहले थे और उनसे ज़ोर व कूवत में भी कहीं बढ़-चढ़ के थे फिर उनका (नाफ़रमानी की वजह से) क्या (ख़राब) अन्जाम हुआ और खुदा ऐसा (गया गुज़रा) नहीं है कि उसे कोई चीज़ आजिज़ कर सके (न इतने) आसमानों में और न ज़मीन में बेशक वह बड़ा ख़बरदार (और) बड़ी (क़ाबू) कुदरत वाला है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और क्या वे नहीं चले-फिरे धरती में, तो देख लेते कि कैसा रहा उनका दुष्परिणाम, जो इनसे पूर्व रहे, जबकि वह इनसे कड़े थे बल में? तथा अल्लाह ऐसा नहीं, वास्तव में, वह सर्वज्ञ, अति सामर्थ्यवान है।